किसी को पता भी न चला रातोंरात मंदिर बन गया मक़बरा

Foto

                        भारत के समाचार  / India News / देश के समाचार 

नई दिल्ली। भारत की राजधानी दिल्ली में तुगलक काल का में बना एक मकबरे को  रातों रात मंदिर में बदल दिया गया और ऐसे हाई सिक्योरटी क्षेत्र में किसी को इसकी भनक तक नहीं लगी। 

राजधानी दिल्ली के सफदरजंग एन्क्लेव स्थित हुमायूंपुर गांव में गुमटी नाम के एक मकबरे को  गेरूए रंग में रंग कर इसके अंदर मूर्तियां स्थापित कर दी गई । घनी आबादी  के बीच बने इस मकबरे को राज्य सरकार ने स्मारक का दर्जा दिया था। और इस मामले में ​पुलिस और दिल्ली सरकार ने चुप्पी साध रखी है। यह पूरा घटना क्रम मार्च में घटित हुआ था ऐसा बताया जा रहा है।

खबरो के मुताबिक इंडियन नेशनल ट्रस्ट फॉर आर्ट एंड कल्चरल हेरिटेज (इंटैक) के सहयोग से पुरातात्विक विभाग द्वारा  इस मकबरे का जीर्णोधार किया जाना था। लेकिन स्थानीय नागरिको के विरोध के कारण मकबरे के मरम्मत का काम शुरू न हो सका, परअचानक इसी बीच मकबरा को मंदिर में तब्दील कर दिया। 

गौरतलब है कि दर्जा प्राप्त स्मारक में छेड़छाड़ सिटीजन चार्टर का बड़ा उल्लंघन है। चार्टर के मुताबिक मकबरे या आसपास के किसी दीवार को पेंट नहीं कर सकते और न ही इसकी मूल पहचान को बदला जा सकता है।

दूसरी तरफ इस मामले में दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि मुझे इस बारे में कोई सूचना नहीं है। संबंधित विभाग को इसकी जांच की जिम्मेदारी सौंपी जाएगी। इस स्मारक के पास भगवा रंग के बेंच लगे हैं जिसपर सफदरजंग एनक्लेव की निगम पार्षद राधिका अबरोल फोगाट का नाम छपा है। 

इस घटना पर फोगाट ने कहा कि स्मारक को बिना उनकी जानकारी के मंदिर में बदल दिया गया है। उन्होंने इसके लिए पूर्व भाजपा काउंसिलर ​को जिम्मेदार ठहराया।  

leave a reply

भारत के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी