राफेल पर झूठ फैलाने वाली कांग्रेस देश से मांगे माफी:सीएम योगी

Foto

भारत के समाचार/india news

लखनऊ। राफेल मामले पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद यूपी के सीएम ने अपने आवास पर आयोजित पत्रकार वार्ता को सम्बोधित करते हुए कहा कि राफेल मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट ने जो अपना फैसला दिया है हम उसका स्वागत करते हैं देश की सुरक्षा के साथ कांग्रेस ने झूठ बोलकर जो शरारत करने का दुस्साहस पूर्ण कार्य किया है उसके लिए उसे देश से माफी मांगनी चाहिए। उन्होने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले से साफ हो गया है कि कांग्रेस देश की लोकप्रिय सरकार को बदनाम करने का कुचक्र रच रही थी।

सीएम योगी ने कहा कि कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी को राफेल मुद्दे पर देश की छवि को खराब करने का कार्य किया है ये सिर्फ राजनीतिक स्वार्थों के लिए किया है। इसके लिए उन सब को माफी मांगनी चाहिए। सीएम ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने बहुत गहराई में जाकर के इस पूरे मामले के सभी पक्षों को देखा है और स्पष्ट कर दिया है कि राफेल खरीद में केंद्र सरकार ने नियम संगत तरीके से कार्य किया है जिस पर संदेह निराधार है।

सीएम ने कहा कि स्वाभाविक रूप से कांग्रेस के समय में देश की रक्षा सौदों के साथ जिस प्रकार के खिलवाड़ होते रहे हैं क्वात्रोची और मिशेल जैसे दलालों को संरक्षण दिया गया कांग्रेस से उसकी शादी हो चुकी थी। कांग्रेसी देश की सुरक्षा और संरक्षा के साथ खिलवाड़ करती नजर आई।

सुप्रीम कोर्ट के निर्देश से कांग्रेस का झूठ बेनकाब हुआ है। कांग्रेस को भी देश की सुरक्षा के प्रति अपनी जिम्मेदारी का परिचय देना चाहिए था। यूपीए सरकार के कार्यकाल मे देश की सुरक्षा की अनदेखी की गई इसकी दोषी कांग्रेस है।

सीएम ने कहा कि मोदी जी के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी की सरकार ने बिना मेडिएटर के राफेल डील को पूरा किया, साफ सुथरा नजरिया अपनाया और उस पर भी कांग्रेस के नेताओं ने जिस प्रकार के झूठे और गलत आरोप लगाए और उन्हे देश में बदनाम किया, संसद को बाधित किया व  जगह-जगह जा कर के देश की जनता के सामने जिस प्रकार झूठ बोलने का काम किया इसके लिए उन्हें देश की जनता से माफी मांगने चाहिए I

यह भी पढ़ें:    पाकिस्तान जेल में सजा पूरी कर चुके भारतीयों को छुड़ाएगी मोदी सरकार

यह भी पढ़ें:    SC सीबीआई विशेष निदेशक राकेश अस्थाना को मिली बड़ी राहत

leave a reply

भारत के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी