राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद मामले पर जल्द सुनवाई नहीं करेगी SC

Foto

National News / राष्ट्रीय समाचार

नई दिल्ली। राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद मामले में सर्वोच्च न्यायालय ने जल्द सुनवाई से इनकार किया। अखिल भारतीय हिंदू महासभा की ओर से दाखिल की गई याचिका को खारिज करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि इस मसले पर जल्द सुनवाई की जरूरत नहीं है। 

चीफ जस्टिस रंजन गोगोई और न्यायमूर्ति संजय किशन कौल की पीठ ने कहा कि उसने पहले ही अपीलों को जनवरी में ​उचित पीठ के पास सूचीबद्ध कर दिया है। इस संबंध में अधिवक्ता बरूण कुमार के अनुरोध को खारिज करते हुए पीठ ने कहा कि हमने आदेश पहले ही दे दिया है। अपील पर जनवरी में सुनवाई होगी।

अखिल भारतीय हिंदू महासभा की तरफ से सुप्रीम कोर्ट में दाखिल याचिका में राम जन्मभूमि मामले पर जल्द सुनवाई करने की अपील की गई थी। मालूम हो कि अयोध्या राम मंदिर मामले में सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई अगले साल जनवरी तक के लिए टाल दी थी। इस दौरान शीर्ष अदालत ने कहा था कि इस मामले की नियमित सुनवाई पर फैसला भी अब जनवरी में ही होगा।

दूसरी तरफ राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष सैयद गैयूरुल हसन रिजवी ने राम मंदिर मामले पर कहा था कि विवादित स्थान पर राम मंदिर बनना चाहिए ताकि देश का मुसलमान 'सुकून, सुरक्षा और सम्मान' के साथ रह सके। साथ ही उन्होंने कहा कि इस मामले में सुप्रीम कोर्ट को जल्द फैसल करना चाहिए ताकि देश में शांति और भाईचारा मजबूत हो सके।

दरअसल कुछ मस्लिम संगठनों ने अयोध्या मामले का हवाला देते हुए एप्लीकेशन देकर आयोग से इस मामले में पहल करने की मांग की है। अल्पसंख्यक आयोग 14 नवंबर को अपनी मासिक बैठक में इस पर विचार करेगा। इसके बाद आयोग कोर्ट से अयोध्या मामले पर जल्द फैसला सुनाने का आग्रह कर सकता है।

यह भी पढ़ें: बनकर रहेगा अयोध्या में राम मंदिर

यह भी पढ़ें: राम मंदिर को लेकर मुस्लिमों पर यह बोले मुख्तार अब्बास

 

leave a reply

भारत के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी