सबरीमाला मामले पर RSS आतंकियों की तरह पेश आ रहे : CPM

Foto

National News / राष्ट्रीय समाचार

तिरुवनंतपुरम। केरल में सबरीमाला मंदिर विवाद रुकने का नाम नहीं ले रहा है। शीर्ष अदालत के आदेश के बावजूद सबरीमाला मंदिर में महिलाओं का प्रवेश के लिए संघर्ष जारी है। विवादों के बीच इस मामले पर मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीएम) पोलित ब्यूरो के सदस्य एस रामचंद्रन पिल्लई ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) पर बड़ा इल्जाम लगाया है। उन्होंने कहा कि आरएसएस का व्यवहार तालिबान और खालिस्तान के आतंकवादियों की तरह है।

एक न्यूज एजेंसी से बातचीत के दौरान उन्होंने कहा कि आरएसएस सबरीमाला मंदिर मामले में परेशानियां पैदा करने की कोशिश कर रही है। उन्हें सब कुछ शांतिपूर्ण तरीके से होने की इजाजत देनी चाहिए लेकिन वे ऐसा नहीं कर रहे हैं।

बताते दें कि सुप्रीम कोर्ट ने 28 सितंबर को महिलाओं के पक्ष में फैसला सुनाते हुए कहा था कि मंदिर में प्रवेश की अनुमति है। कोर्ट के इस फैसले का सबरीमाला के पुजारियों, समर्थकों और कुछ राजनैतिक पार्टियों ने विरोध जताना शुरू कर दिया।

हैरान करने वाली बात है कि कोर्ट के आदेशें को ठेंगे पर रख लिया गया है और मंदिर में महिलाओं के प्रवेश को लेकर प्रदर्शनकारियों का विरोध लगातार जारी है। केरल के सीएम पिनराई विजयन ने सभी पार्टियों की बैठक बुलाई थी। लेकिन यह बैठक भी विफल रही। बीजेपी और कांग्रेस दोनों ही पार्टियों ने इसे नौटंकी करार दिया।

मान्यता है कि भगवान अय्यपन के दर्शन केवल वही महिलाएं कर सकती है जिसको मासिक धर्म न आता हो। इस मामले पर आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने कहा था कि सबरीमाला के निर्णय का उद्देश्य स्त्री-पुरुष समानता का था, लेकिन हो क्या रहा है। सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले से असंतोष पैदा हो गया है।  

यह भी पढ़ें: सबरीमाला में फिर ठेंगे पर सुप्रीम कोर्ट का आदेश

यह भी पढ़ें: सबरीमाला : आज खुलेगा मंदिर का कपाट, प्रदर्शनकारियों ने तृप्ति देसाई को घेरा

leave a reply

भारत के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी