सबरीमाला मंदिर विवाद: संत ने किया था महिलाओं का समर्थन, विरोध में आश्रम पर हमला

Foto

 

भारत के समाचार/National News


 

तिरुवनंतपुरम।  केरल में सबरीमाला मंदिर विवाद रुकने का नाम नहीं ले रहा है। मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर अनुमति का आदेश जब से सुप्रीम कोर्ट ने दिया है, यहां हिंसा की भेंट महिलाएं और उनके समर्थन में आने वाले चढ़ रहे हैं। बताया जा रहा है कि स्वामी संदीपानंद गिरी ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश का समर्थन किया था। इसके विरोध में हमलावारों ने उनके आश्रम में अचानक हमला बोल दिया। इसके बाद दो कारों और मोटरसाइकिल को आग के हवाले कर दिया। घटना देर रात 2 बजे के बाद की बताई जा रही है। पुलिस ने अज्ञात हमलावारों के खिलाफ केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। 

 

 

सीएम ने किया दौरान

 

घटना पर सीएम पिनारई विजयन ने आपत्ति जताते हुए आश्रम का दौरा किया। उन्होंने कहा कि वह कोई भी हो कानून को हाथ में लेने की अनुमति किसी को नहीं है। स्वामी संदीपानंद के आश्रम पर हमला अस बात को साबित करता है कि लोग उनके प्रति असहिष्णु हैं। इस तरह के हमले तो तभी होते हैं, जब लोग विचारों से समझौता नहीं कर सकते। वहीं, केरल के वित्त मंत्री थॉमस इसाक ने इस घटना को हत्या का प्रयास बताया है। उन्होंने इसके लिए संघ परिवार को जिम्मेदार बताते हुए कहा कि कानून को तोड़ने का प्रयास किया जा रहा है।

 


 

नहीं हो सकता भेदभाव

 

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने सबरीमाला मंदिर पर ऐतिहासिक फैसला सुनाते हुए मंदिर में महिलाओं को प्रवेश करने की अनुमति दी थी। कोर्ट ने यह भी कहा था कि यदि महिलाओं को मंदिर में प्रवेश नहीं दिया जाता है, तो यह अनुच्छेद 25 (धर्म की स्वतंत्रता) का उल्लंघन है। किसी भी आधार पर भक्ति भवना को लेकर भेदवान करने का अधिकार किसी को नहीं है। कोर्ट का यह फैसला आने क बाद से महिलाओं का विरोध लगातार जारी है। महिलाओं ने कोर्ट के आदेश के बाद जब मंदिर में प्रवेश करने का प्रयास किया तो हिंसा ने रूप ले लिया। 

 

 
यह भी पढ़ें...शरद पूर्णिमा के दिन पानी है मॉं लक्ष्मी की कृपा तो करें ये उपाय, दूर हो जाएगी दरिद्रता

 

यह भी पढ़ें...नगर कीर्तन और लंगर में उमड़े श्रद्धालु

leave a reply

भारत के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी