भारतीय सेना को मिलेंगी बुलेट प्रूफ जैकेट्स

Foto

नई दिल्ली। नए बुलेट प्रूफ जैकेट्स का निर्माण रक्षा उपकरण मैन्युफैक्चरर एसएमपीपी प्राइवेट लिमिटेड करेगी जिसके सैंपल टीबीआरएल चंडीगढ़ में ट्रायल के दौरान सही पाए गए हैं। ये बुलेट प्रूफ जैकेट्स जवानों को 360 डिग्री की सुरक्षा प्रदान करते हैं।  हर जैकेट का वजन लगभग 10 किलोग्राम होता है और यह लेवल थ्री प्लस की सुरक्षा उपलब्ध कराती है। हर जैकेट में बैलिस्टिक फैब्रिक होती है  जिसमें बोरॉन कार्बाइड सेरॉमिक प्लेट लगी होती है साथ ही गले और ग्रोइन को भी सुरक्षा कवर प्रदान करते हैं।

यह जैकेट 7.62 गुणा 51 के हथियारों से निकले फायर को सीधे रोक सकती है साथ ही 5.56 गुणा 45 इंसास और 7.62 गुणा 39 एमएम एके-47 के स्टील कोर बुलेट्स को भी रोक सकती है। एसएमपीपी के एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर आशीष कंसल ने कहा कि हमारी फर्म दुनिया की उन पांच फर्मों में से एक है जो सेरॉमिक बनाती हैं यह सबसे हल्का और मजबूत पदार्थ है जो बुलेट को रोक सकता है। एसएमपीपी अगले कुछ महीनों में ही जैकेट्स की डिलिवरी शुरू कर देगी और तीन साल के भीतर इस ऑर्डर को पूरा करेगी।

आर्मी को कम से कम 3,53,465 बुलेट प्रूफ जैकेट्स की जरूरत है, रक्षा मंत्रालय के नए ऑर्डर से आर्मी की कुछ जरूरतें तो पूरी होंगी। 16 अक्टूबर 2009 को रक्षा मंत्रालय ने सेना के जवानों के लिए एक लाख 86 हजार एक सौ अड़तीस बुलेट प्रूफ जैकेट खरीदने को लेकर अपनी स्वीकृति दी थी लेकिन कई अन्य कारणों से आर्मी इन बुलेट प्रूफ जैकेट्स को हासिल नहीं कर पाई  यही नहीं 2015 में टीबीआरएल चंडीगढ़ में किया गया इन जैकेट्स का ट्रायल भी फेल रहा इसके बाद इमरजेंसी में 2016 में 50 हजार जैकेट्स मंगाए गए  जिनकी डिलीवरी पिछले साल पूरी हुई है।

रक्षा मंत्रालय ने सोमवार को सेना के जवानों के लिए 1.86 लाख बुलेट प्रूफ का ऑर्डर दिया है इसके लिए भारतीय सेना 639 करोड़ रुपये खर्च करेगी इसके साथ ही पिछले 9 सालों से चला आ रहा सेना का लंबा इंतजार खत्म होता दिख रहा है सीमा पर तैनात जवानों और आतंकियों के खिलाफ अभियान में शामिल होने वाले जवानों को ये बुलेटप्रूफ जैकेट दिए जाएंगे। 
 

leave a reply

भारत के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी