विद्यासागर की मूर्ति तोड़ने को लेकर टीएमसी और बीजेपी आमने सामने 

Foto

 

National News/भारत के समाचार 

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के रोड शो के दौरान बवाल के बाद विवाद बढ़ता जा रहा है। रोड शो में हिंसा के बाद मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की पार्टी तृणमूल कांग्रेस ने बीजेपी पर समाज सुधारक ईश्वर चंद्र विद्यासागर की मूर्ति तोड़ने का आरोप लगाया है। इस मामले के तूल पकड़ते ही सीएम ममता ने अपने ट्विटर की डीपी में अब विद्यासागर की फोटो लगा ली है। 

वहीं, विद्यासागर कॉलेज के प्रधानाचार्य गौतम कुंडु ने बीजेपी समर्थकों पर कई गंभीर आरोप लगाए। उन्होंने कहा, ‘’बीजेपी समर्थक पार्टी का झंडा लिए हमारे दफ्तर के अंदर घुस आए और हमारे साथ बदसलूकी करने लगे। उन्होंने कागज फाड़ दिया, कार्यालय और संघ के कक्षों में तोड़फोड़ की और जाते वक्त विद्यासागर की आदम कद प्रतिमा तोड़ दी। उन्होंने दरवाजे बंद कर दिये और मोटरसाइकलों को आग के हवाले कर दिया।

बीजेपी और टीएमसी आमने सामने

ममता बनर्जी ने विद्यासागर की मूर्ति तोड़े जाने के खिलाफ बृहस्पतिवार को एक विरोध रैली की घोषणा भी की है, बवाल के बाद कल ममता बनर्जी ने कहा था, बीजेपी के लोग इतने असभ्य हैं कि उन्होंने विद्यासागर की प्रतिमा तोड़ दी। वे सभी बाहरी लोग हैं। बीजेपी मतदान वाले दिन के लिए उन्हें लाई है। इस दौरान ममता ने अमित शाह को ‘गुंडा’ बताया। अब इस विवाद के बाद विद्यासागर की प्रतिमा गिराने के मुद्दे पर टीएमसी ने चुनाव आयोग से मुलाकात का समय मांगा है। लोकसभा चुनाव के सातवें और अंतिम चरण के लिए राजनीतिक पार्टियों में घमासान जारी है। पश्चिम बंगाल में चुनावी हिंसा को लेकर सियासत गरमा गई है। इसको लेकर जहां शाम को ममता बनर्जी मार्च निकालेंगी। वहीं दूसरी ओर इस मामले पर भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने रोड शो में पत्थरबाजी और झड़प के मामले में प्रेस कॉन्फ्रेंस की। शाह ने टीएमसी पर खुद पर हमले और ईश्वर चंद्र विद्यासागर की मूर्ति तोड़ने का आरोप लगाया। 

अमित शाह ने पीसी में रखे यह सवाल 

अमित शाह ने कहा कि छह चरण के चुनाव हो चुके हैं, बंगाल को छोड़कर कहीं हिंसा नहीं हुई। हिंसा का आरोप टीएमसी बीजेपी पर लगा रही है, लेकिन हिंसा सिर्फ बंगाल में हो रही है, बीजेपी पूरे देश में चुनाव लड़ रही है। कल रोड शो से तीन घंटे पहले हमारे बैनर पोस्टर हटा दिए गए, पीएम के पोस्टर फाड़े गए, पुलिस मूक दर्शक बनी रही। रोड शो में कम से दो-ढाई लोग आए थे, कहीं एक इंच जगह नहीं थी। रोड शो के दौरन तीन बार हमले किए गए, पत्थर, केरोसिन बम फेंके गए, आगजनी हुई। अमित शाह ने सवाल किया कि परिसर का गेट टूटा नहीं, बीजेपी कार्यकर्ता बाहर थे, अंदर टीएमसी कार्यकर्ता थे तो मूर्ति किसने तोड़ी। यह मूर्ति कमरे के अंदर थी, कॉलेज बंद हो चुका था। यह कमरा किसने खोला, ताला किसने खोली? ताला टूटा नहीं है? मूर्ति किसने तोड़ी? उन्हाेंने कहा कि 6 चरण के चुनाव हो चुके हैं, टीएमसी हार रही है, पंचायत चुनाव में भी 7 राजनीतिक कार्यकर्ताओं की हत्या हुई। हार सामने दिख रही है, इसलिए टीएमसी ऐसा कर रही है। चुनाव आयोग मूक पर्यवेक्षक बना हुआ है। चुनाव आयोग तुरंत हस्तक्षेप करे, बंगाल में हिस्ट्री शीटरों की गिरफ्तारी क्यों नहीं हुई?


उन्हाेंने कहा कि ममता बनर्जी ने दो दिन पहले ही बदला लेने की धमकी दी थी, ममता यदि सोचती हैं कि हिंसा का कीचड़ फैलाकर जीत जाएंगी, आप मुझसे उम्र में बड़ी ज्यादा हो लेकिन अनुभव मुझे ज्यादा है हिंसा का कीचड़ जितना फैलाओगी, कमल खिलेगा। अभी मुझे जानकारी मिली है कि मुझ पर एफआईआर हुई है, दीदी मैं आपके एफआईआर से डरता नहीं हूं, मुझ पर तो एफआईआर हुई है, कई कार्यकर्ताओं की तो हत्या कर दी गई है।    

यह भी पढें   उत्तर प्रदेश में जल्द शूट होगी बोनी कपूर की अपकमिंग फिल्म   

यह भी पढें   एक्स ब्वॉयफ्रेंड को देख सारा ने मोड़ा मुंह, 2 साल पहले हुआ था ब्रेकअप 

leave a reply

भारत के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी