लाश के साथ 6 महीने तक रहा बेटा, वजह जान उड़ जाएंगे होश

Foto

अपराध के समाचार/Crime News


रांची। अंधविश्वास में कोई क्या कर बैठे उसे खुद भी पता नहीं होता। लेकिन बाद में अपनी गलतियों पर पछतावा जरूर होता है। कुछ इसी तरह का मामला झारखंड से सामने आया है। यहां प्रशांत नाम के शख्स के पिता की मौत 6 महीने पहले हो गई थी। लेकिन प्रशांत ने अपने पिता का अंतिम संस्कार इसलिए नहीं किया कि उसे भरोसा था वह दोबारा जीवीत कर लेगा। हैरान करने वाली बात है कि पिता को जीवीत करने के लिए लाश के साथ 6 महीने तक रहा। काफी पूजा पाठ भी किया। लेकिन उसके पिता जीवित नहीं हुए। जब लाश से दुर्गंध आने लगी तो पड़ोसियों ने पुलिस को सूचना दी और मामले का खुलासा हुआ।

 

 

ये है मामला 


गिरीडीह शहर के इंदिरा कॉलोनी में मृतक पिता को जीवीत करने के लिए बेटा 6 महीने तक लाश के साथ एक ही कमरे में बिताया। जब इसकी जानकारी पुलिस को हुई तो मौके पर पहुंची और आरोपी बेटे को हिरासत में ले लिया। प्रशांत ने बताया कि वह अपने पिता से बहुत प्यार करता था। उसे भरोसा था कि वह पिता को दोबारा जीवीत कर लेगा। लेकिन अब उसका भरोसा भगवान से उठ गया है और पूजा पाठ करना भी छोड़ दिया है। वहीं, स्थानीयों का कहना है कि 11 महीने की लंबी बीमारी के बाद प्रशांत के पिता विश्वनाथ की मौत हो गई थी। लेकिन इस बात की जानकारी ग्रामीणों को नहीं हो पाई। जब कोई उनके बारे में पूछता तो इलाज का हवाला देकर बाहर भेजने की बात बता दी जाती। 

 

 

जलाता था अगरबत्ती


स्थानीयों के मुताबिक अंधविश्वासी बेटा पिता के लाश से दुर्गंध नहीं आए इसके लिए अगरबत्ती और रूम फ्रेशनर का प्रयोग करता था। मृतक विश्वनाथ की एक बेटी ममता सिन्हा भी है। वह बच्चों को ट्यूशन पढ़ाकर खर्च चलाती है। हैरान करने वाली बात है कि जिस घर में मृतक विश्वनाथ का शव था, उसी के बाहर बच्चों को ममता पढ़ाती थी। आरोपी की बहन ममता के मुताबिक उसे इस बात की जानकारी ही नहीं कि उसके पिता की मौत कब, कहां और कैसे हुई। दो दिन पहले पिता के शव को घर पर लाने के बाद केमिकल डालकर रखा गया था। 

 

जिंदा करने की उम्मीद


मृतका की पत्नी अनु के मुताबिक बेटै का कहना था कि वह पिता को जीवित कर लेगा। जब उसने कहा कि यह बात वह पड़ोसियों से बता देगी तो मारपीट की। अनु को डर था कि उसका बेटा कहीं आत्महत्या न कर ले और वह चुप रही। वहीं, पुलिस का कहना है कि मृतक विश्वनाथ के घर से एक बोर्ड बरामद किया गया है। इसमें एफयू बड़े बड़े शब्दों में लिखा है। बोर्ड में श्मासान का भी जिक्र है। केमिकल की बोतलें भी बारामद हुई हैं। साथ ही यह भी लिखा है, जो काम अरबों वर्षों से एफयू का प्रयोग कर कोई नहीं कर सका वह कर दिखाएगा। कई बातों से पुलिस को शक है कि प्रशांत का रिश्ता तंत्र मंत्र से भी ​है। फिलहाल पुलिस पूरे मामले की छानबीन कर रही है।

यह भी पढ़ें...शातिर ठग ने पैसा दुगना करने के नाम पर  260 करोड़ रूपए ठगे 

यह भी पढ़ें...15 हज़ार का इनामी शातिर बदमाश तमंचा व कारतूस के साथ गिरफ्तार

leave a reply

जरा हट के

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी