loader

कर्नाटक : बिना जनादेश की सरकार बनाने को एकजुट हुआ विपक्ष

Foto

मेहमानो की कलम से, From the pen of guests,

आज जब प्रधान मंत्री 9 लड़कियों को भारत का मान ऊंचा करने के लिए मिल कर बधाई दे रहे थे, उस समय कर्नाटक में मोदी नफरत ब्रिगेड के सारे नेता? एक बगैर जनादेश  की, बेईमानी की, सरकार बनाने के लिए इकठ्ठे हुए थे। इनके चेहरे पर खौफ, आत्मविश्वास में भारी कमी,व खामोश मायूसी इतनी ज्यादा थी कि ये आपस मे सट सट के फोटो खिंचाकर झूठा शक्ति प्रदर्शन कर रहे थे।

कौन कौन थे इस ब्रिगेड में?

इटली व वैटिकन को रिप्रेजेंट करने वाली सोनिया व उनके वो बालक जो आजकल पूरे देश में मनोरंजन का साधन बने हैं। भ्रस्टाचार, अपराध , परिवारवाद, जातिवाद ,व साम्प्रदायिकता, के पर्याय-- तेजस्वी(लालू), अखिलेश (मुल्लायम), माया (भ्रस्टाचार की काली कमाई के 100 करोड़ के बंगले में रहने वाली दलित की बेटी?)

 में प्रजातंत्र की धज्जियां उड़ाने वाली अत्याचारी मुमता,और साथ मे उनके धुर विरोधी चीन समर्थक, सीताराम येचुरी अब ये सब मिलकर, मोदी से लड़ेंगे?  ताकि ये पहले की तरह देश को लूटे, बांटे, देशद्रोह करे, जो कि राजनीति की परिभाषा थी जो आजकल बदल गयी है तो इनका धंधा मंदा पड़ा है।

जंगल मे एक बार सारे जानवर मिलकर शेर को राजा पद से हटाना चाहते थे, लिहाज़ा बंदर को राजा बना दिया। थोड़ी देर में शेर ने हिरण को पकड़ लिया, बंदर जो नया नया राजा बना था, लगा चिल्लाने, लेकिन शेर हिरण को खा गया। सारे जानवरो ने बंदर से ऐतराज जताया तो बोला भैय्या मै उछल कूद मचा तो रहा था और क्या करता?

आम भारतीय मतदाताओं की समझ सिर्फ इतनी है कि वो प्याज़, टमाटर, धनिया, पेट्रोल, की कीमतों पर अपना नेतृत्व चुन लेता है।वो बात अलग है कि 2000 रुपये फ़िल्म व पिज़्ज़ा में एक दिन में खर्च कर दे।

डॉ आर के वर्मा (देव)

 

leave a reply

मेहमानों की कलम से

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी