आजम खां ने BJP पर बोला हमला, गोडसे वाले बयान पर दी प्रतिक्रिया

Foto

Political Newsराजनीति के समाचार

 सुरेश दिवाकर

रामपुर। भाजपा द्वारा बापू के हत्यारे का महिमा मण्डन करने पर पूर्व मंत्री एंव गठबंधन प्रत्याशी आजम खां ने कहा कि बापू के हत्यारे का अगर देश अगले पांच साल अनुसरण करेगा तो इसका परिणाम अच्छा नहीं निकलेगा। चुनावी प्रचार के आखिरी दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मध्य-प्रदेश के खरगोन में एक जनसभा को संबोधित करते हुए इतिहास दोहराते हुए पूर्ण बहुमत वाली सरकार बनाने का दावा किया। जिस पर प्रतिक्रिया देते हुए आजम ने कहा, पिछली सरकार जब बनी थी भारतीय जनता पार्टी की तो यह नहीं मालूम हो सका था कि नाथूराम गोडसे को हीरो बना कर भारतीय जनता पार्टी की सरकार बन गई है। यूं कहें कि बापू की हत्या को जायज करार देने वाले की सरकार बन गई। 

आजम खान ने आगे कहा कि हम हर अंजाम के लिए तैयार हैं, लेकिन जो बहुसंख्यक वर्ग है इस देश का उसे बहरहाल यह जरूर सोचना चाहिए कि मुल्क किस तरफ जा रहा है। बापू के हत्यारों की विचारधारा का देश फिर अगर 5 साल अनुसरण करेगा तो उसका बहुत अच्छा नतीजा नहीं निकलेगा। कमल हासन द्वारा नाथूराम गोडसे को पहला हिंदू आतंकवादी कहने पर भाजपा नेत्री प्रज्ञा ठाकुर द्वारा दी गई प्रतिक्रिया पर आजम खान ने कहा कि बापू के हत्यारे को पूरी दुनिया हत्यारा दहशतगर्द मानती है। लेकिन बार-बार इस बात की कोशिश होती है कि नाथूराम गोडसे को इसलिए देशभक्त कहा जाए। क्योंकि उसने बापू की हत्या की थी। 

आजम ने कहा कि मैंने तो कहा था कि नाथूराम गोडसे को भारत रत्न दिया जाए। मैं तो मांग कर रहा हूं इस बात की पहले भी कर चुका हूं कि नाथूराम गोडसे के योगदान को देखते हुए भारतीय जनता पार्टी और आरएसएस का प्रेम देखते हुए। क्योंकि भाजपा के आइडियल हैं, नाथूराम गोडसे और साध्वी प्रज्ञा जो इस वक्त सिंबल हैं, प्रतीक हैं।भारतीय जनता पार्टी की उसकी विचारधारा की भोपाल जैसी प्रेस्टीजियस सीट से वह कैंडिडेट हैं, तो ऐसे व्यक्ति को महामण्डित तो किया जाना चाहिए। ताकि देश को यह मालूम हो कि भारतीय जनता पार्टी देश को किस तरफ ले जा रही है। वहीं साध्वी प्रज्ञा द्वारा बापू के हत्यारे को देशभक्त कहने के बयान पर आजम खान ने कहा वह हत्यारा कब मानते हैं। वह तो कहते हैं कि गलत विचार वाले व्यक्ति को रास्ते से हटा दिया। हत्यारे को देश भक्त मानते हैं, हीरो मानते हैं, मंदिर बनाते हैं, ताकि नाथूराम जैसे लोग और पैदा हों देश में। इसी तरह से वह सफाया करें। प्रधानमंत्री तो कहते ही हैं कि मैं सफाई के लिए आया हूं।

अखिलेश यादव ने मुख्य निर्वाचन आयुक्त से निष्पक्ष चुनाव कराने की मांग किया

सनी देओल ने किया आचार संहिता का उल्लंघन, आयोग ने भेजा नोटिस

leave a reply

राजनीति के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी