चुनाव आयोग निष्पक्ष काम करे ना कि पीएम को खुली छूट दे:मायावती

Foto

राजनीति के समाचार/political news

पीएम मोदी के हेलीकाफ्टर की तलाशी लेने वाले अफसर को निलम्बित किये जाने पर बसपा प्रमुख ने उठाये सवाल

लखनऊ। खुद पर चुनाव आयोग के क्षरा प्रतिबन्ध लगाये जाने के बाद से बसपा सुप्रीमो मायावती चुनाव आयोग पर हमला बोलने का कोई अवसर नही छोड़ रही है हैं,शुक्रवार को पूर्व सीएम ने पीएम मोदी के हेलीकाफ्टर की तलाशी लेने वाले अफसर का समर्थन करते हुए कहा कि उस अफसर को निलम्बित किया जाना गलत है। मायावती ने कहा कि चुनाव आयोग को निष्पक्ष होकर काम करना चाहिए न कि पीएम मोदी को खुली छूट देनी चाहिए।

गौरतलब है कि चुनाव आयोग की नियमावली में एसपीजी सुरक्षा प्राप्त लोगों को तलाशी से छूट दिये जाने का प्रावधान है जबकि इसके विपरीत ओडिशा में समान्य पर्यवेक्षक के रुप में तैनात आईएएस अधिकारी मो. मोहसिन को पीएम मोदी के हेलीकाफ्टर की तलाशी लेने के बाद चुनाव आयोग के द्वारा निलम्बित कर दिया गया था। इससे पहले आईएएस मोहसिन ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक और पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान के हेलिकॉप्टर की भी तलाशी कर चुके थे।

बसपा की मुखिया मायावती ने चुनाव आयोग की कार्यवाई पर निशाना साधते हुए कहा कि चुनाव आयोग के पास ऐसा कौन सा अधिकार है जिससे पीएम के विमान की तलाशी पर रोक है व ऐसा करने पर आइएएस पर्यवेक्षक को निलम्बित कर दिया गया। उन्होने कहा कि बीएसपी पूर्व सीईसी श्री कुरैशी से सहमत है कि ऐसी कार्रवाई अनुचित है। आयोग को निष्पक्ष काम करना चाहिए ना कि पीएम श्री मोदी को हर प्रकार की खुली छूट।

वहीं इस पर इस पर पूर्व चुनाव आयुक्त एस वाई कुरैशी ने भी ट्वीट कर निराशा जाहिर करते हुए कहा, आयोग ने छवि सुधारने का मौका खो दिया। ओडिशा में सामान्य पर्यवेक्षक के तौर पर तैनात आईएएस अधिकारी को प्रधानमंत्री मोदी के हेलिकॉप्टर की जांच करने की वजह से निलंबित किया जाना न केवल दुर्भाग्यपूर्ण है बल्कि आयोग की छवि को सुधारने के मौके से चूकना भी है।  उन्होंने कहा, 'प्रधानमंत्री लगातार आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन कर रहे हैं और आयोग लगातार उसकी अनदेखी कर रहा है। 

यह भी पढ़ें:   जनसभा में गरजे विधायक नितिन अग्रवाल

यह भी पढ़ें:    आतंकवाद मिटाना है तो कमल का बटन दबाना है: उपमुख्यमंत्री

leave a reply

राजनीति के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी