सपा-बसपा और कांग्रेस जो नहीं कर पाई, पीएम ने कर दिखाया: सीएम

Foto

Political News / राजनीति समाचार


लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि प्रियंका वाड्रा का गंगा जी में यात्रा करना, इस बात का सबूत है कि हमने विकास किया है। गंगा जी की निर्मलता पर अब कांग्रेस समेत विपक्षी दलों को कोई भी प्रश्न उठाने का अधिकार नहीं है। मुझे बड़ी प्रसन्नता हुई, कि प्रियंका वाड्रा प्रयागराज से वाराणसी तक गंगा जी में बोट के माध्यम से यात्रा कर रही हैं। अच्छा होता राहुल भी साथ में होते हैं, अपने सहयोगी सपा-बसपा के मित्रों को साथ लेकर जाते और श्री नरेंद्र मोदी जी का आभार व्यक्त करते। क्योंकि नरेंद्र मोदी जी के कारण आज गंगा जी चलने और आचमन करने लायक हुई है।


मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि जिस कार्य को सपा-बसपा और कांग्रेस की प्रियंका वाड्रा की चार पीढ़ी नहीं कर पाई। आज वो कार्य प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के नमामि गंगे परियोजना से सफल हुआ है, इसलिए सभी को मोदी जी का आभार व्यक्त करना चाहिए। मारी सरकार ने 68 वर्षों के बाद उत्तर प्रदेश स्थापना दिवास मनाना शुरू किया। आज हमें खुशी हो रही है कि ये वही प्रदेश है जिसकी पहचान दंगों से होती थी, लेकिन 24 महीने के कार्यकाल को पूरा करने के बाद हमने इसकी प्रदेश की पहचान को बदलने का काम किया है। 24 महीने में प्रदेश की उन तस्वीर को बदलने की कोशिश की जिसके ऊपर कई बदनुमा दाग लगा था।


सीएम योगी ने कहा कि कांग्रेस ने आजादी के बाद से सबसे ज्यादा समय तक प्रदेश में शासन किया लेकिन, इतने दिनों में प्रदेश को बीमारू राज्य की उपाधि दिलवाई। संगठन और सरकार का बेहतर समन्वय है। सरकार नीतियां बनाती हैं, कार्यक्रम लागू करती है। आम जन तक योजनाएं पहुंचाने का कार्य संगठन ने किया है। हम दो साल में प्रदेश में विकास की एक नई दिशा देने में सफल हुए हैं, तो इसके पीछे संगठन की सफल मेहनत है। मैं कह सकता हूं कि भारतीय जनता पार्टी पीएम नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र में प्रचंड बहुमत के साथ सरकार बनाएगी। उत्तर प्रदेश में जो योजनाएं सफलतापूर्वक लागू की गई हैं, उससे भाजपा को बड़ी सफलता मिलेगी।

 

यह भी पढ़ें: मायावती ने ये फैसला कर जीता जनता का दिल, इस दिग्ग्ज नेता के लिए करेंगी प्रचार

यह भी पढ़ें: यूपी से बाहर भी मायावती ने किया गठबंधन


 

leave a reply

राजनीति के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी