घुसपैठियों को देश से चुन चुन कर निकालेंगे:शाह

Foto

राजनीति के समाचार/political news

राहुल पर बोला हमला कहा घुसपैठियों की नही वोटबैंक है चिंता

शिवपुरी। मैं राहुल बाबा एंड कंपनी, सपा, बसपा एवं तृणमूल कांग्रेस को पूछना चाहता हूं कि आपको इनके मानवाधिकार का ख्याल है. ये घुसपैठिये देश में बम धमाके करते हैं. मेरे देश के निर्दोष लोगों की हत्याएं इन्होंने की. उनके मानवाधिकार का विचार आपको नहीं है. मेरे देश के बेरोजगाकर युवा का रोजगार ये घुसपैठिये ले जाते हैं। उक्त विचार बीजेपी अध्यक्ष अमितशाह ने मध्य प्रदेश के शिवपुरी में व्यक्त कियें

असम सहित देश में घुसपैठियों के खिलाफ की जा रही कार्रवाई को लेकर कांग्रेस सहित अन्य विपक्षी दलों पर वोट बैंक की राजनीति करने का आरोप लगाते हुए बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि वर्ष 2018-19 में होने वाले चुनाव जीतने के बाद देश भर में घुसपैठियों को चुन-चुन कर निकालने का काम बीजेपी सरकार करने वाली है।

 

यह भी पढ़ें  उपचुनाव में कांग्रेस को परेशानी में नही डालेगी जेडीएस

 

बीजेपी को देश की सुरक्षा सुनिश्चित करने एवं भारतीयों के अधिकारों का पक्षधर बताते हुए शाह ने यहां पोलो ग्राउंड में ग्वालियर एवं चंबल संभाग के नौ जिलों के कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा,‘अभी असम में हमारी सरकार राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) लेकर आई, जो घुसपैठियों की पहचान करता है आप मुझे बताओ देश में से घुसपैठियों को निकालना चाहिए या नहीं।

अमित शाह ने कहा,‘वर्ष 1970 से हम मांग कर रहे हैं कि घुसपैठिये निकालने चाहिए. जब एनआरसी लेकर आये, 40 लाख लोग प्रथम सूची में चिन्हित हो गए. उनको निकालने का रास्ता धीरे-धीरे आगे बढ़ रहा है।


कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर तंज कसते हुए शाह ने कहा,कांग्रेस के राहुल बाबा एंड कंपनी पूरी संसद के अंदर हाय तौबा मचा रही है, मार डाला, क्यों निकाल रहे हो, क्या खायेंगे, इनके मानवाधिकार का क्या होगा, जैसे उनकी नानी मर गई हो।

 

यह भी पढ़ें   मेहनतकश लोगों पर जुल्म व हिंसा रोके सरकार:मायावती

 

राहुल पर हमला जारी रखते हुए उन्होंने कहा,‘आपके शासन के अंदर देश में करोड़ों घुसपैठिए घुस गए, जो देश को दीमक की तरफ चाट गए ये ज्यादा नहीं चलेगा।’ उन्होंने कहा,‘बीजेपी का शासन है कश्मीर से कन्याकुमारी तक, गुजरात से असम तक. घुसपैठियों को चुन-चुन कर बाहर निकालने का काम बीजेपी करेगी। 
 

leave a reply

राजनीति के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी