जब सरकार ही शराब पीने को प्रोत्साहन देगी तो ऐसी घटनाएं तो होंगी:अखिलेश

Foto

राजनीति के समाचार/political news

गौ कल्याण के लिए शराब पर लगाये सेस पर पूर्व सीएम ने सरकार को घेरा

लखनऊ। शराब पीने हुई मौत पर पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने बीजेपी सरकार को घेरते हुए कहा कि अगर गाय पालने के लिए शराब पीने को प्रोत्साहित किया जायेगा तो ऐसी घटनाएं तो होंगी। सरकार के फैसले से लोगों को लगा कि ज्यादा शराब पियेंगे तो गायों की सेवा होगी लेकिन उन्हे ये नही पता कि कौन सी शराब पीनी है। 

बजट पर पहले ही सरकार पर हमला बोल चुके सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने कहा कि सरकार को ये पता है कि ऐसी शराब कौन लोग बेचते हैं,जांच करोगे तो यही पता चलेगा कि इसमे बीजेपी के ही लोग शामिल हैं। सपा कार्यालय पर पत्रकारों से बातचीत करते हुए पूर्व सीएम ने कहा कि जब सरकार ही शराब पीने को बढ़ावा देगी तो हो सकता है कि आगे भी और मौते हों।

गौरतलब है कि प्रदेश की योगी सरकार ने प्रदेश में गौशालएं बनाने के लिए शराब पर गौ कल्याण सेस लगाया है। पूर्व सीएम ने इसी पर शुक्रवार को बीजेपी सरकार को घेरा। बता दें कि कुशीनगर व सहारनपुर में जहरीली शराब पीने से 28 लोगों की मौत हो चुकी है और दर्जनों लोग अस्पताल में भर्ती हैं।

बजट पर पूर्व सीएम ने कहा कि बजट ठीक से देखो इस सरकार ने उन्ही योजनाओं को अपनी उपलब्धि बताया जो सपा सरकार में शुरु की गयीं थीं। उन्होने कहा कि ये भी तो बताओ कि कितने युवाओं को रोजगार दिया। ये लोग कुछ भी कर लें पर अब इनकी सत्ता में वापसी नही होने वाली है।

बजट के बाद सीएम योगी के द्वारा दिये गये बयान की पहले सिर्फ पांच जिलों में ही बिजली आती थी,इस पर सपा प्रमुख ने कहा कि अगर ऐसा था तो सरकार को आंकड़े भी जारी करने चाहिए थे। उन्होने कहा कि एक योगी से इस तरह के झूठ की उम्मीद नही थी।

उन्होने कहा कि इस सरकार से युवा,महिलाएं किसान सब परेशान हैं,किसानों को उनकी फसल का दाम नही मिल रहा है। पूर्व सीएम ने कहा कि जब किसानों ने प्रदर्शन के लिए सड़क पर आलू बिखेर दिया तो उन पर ऐसी धाराएं लगा दीं कि अब वकीलों को भी पन्ने पलटने पड़ रहे हैं। इनके पास अपना तो कुछ है नही सपा सरकार की ळी योजनाओं पर रंग पोत कर उसका उद्घाटन कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें:   आक्रामक हुईं प्रियंका, BJP और RSS को देंगी चुनौती

यह भी पढ़ें:   चार दिवसीय दौरे पर 11 को लखनऊ आयेंगी प्रियंका

leave a reply

राजनीति के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी