मायावती को है हार का आभास: महेन्द्र नाथ पाण्डेय

Foto

Political News/राजनीति के समाचार

लखनऊ। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष डा. महेन्द्र नाथ पाण्डेय ने मायावती के अनर्गल प्रलाप पर उन्हें आड़े हाथो लेते हुए कहा कि दो दिन पहले तुष्टिकरण वाली जुबान चुनाव आयोग ने बंद की थी। खुद पर कार्रवाई होने के बाद मायावती ने आयोग को भी जातिवादी बता दिया था। पार्टी के नाम पर निजी कम्पनी चला रहीं मायावती आपको संवैधानिक संस्थाओं पर कोई भरोसा नहीं है? तभी तो हार की भनक लगते ही आपने ईवीएम-ईवीएम चिल्लाना शुरू कर दिया था और अब मंदिर-मंदिर का राग अलाप रही हैं। उनको अपनी हार का आभास हो चुका है। इसलिए इस तरह के बयानबाजी कर रहीं।

श्री पाण्डेय ने कहा कि मायावती जी! संविधान सबको आस्था का अधिकार देता है, जिसमें मंदिर जाना भी शामिल है। दलित भाई-बहनों को लेकर आपके पेट मे दर्द हम समझ सकते हैं। जिनको वोट बैंक बनाकर आप टिकट बेचती रहीं, जिनसे हाथ मिलाने के बाद आपके प्रत्याशी साबुन से हाथ धुलते हैं। जिनका प्रवेश आपके बंगले में वर्जित है। आज वह मोदी-योगी राज में मिल रहे सम्मान व विकास के साथ खड़े हैं। यह आपकी पीड़ा का कारण है।

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि मंदिर जाना हमारा संवैधानिक अधिकार है और मायावती को मंदिर जाने से किसी ने नहीं रोका। वह भी मंदिर जाकर ईश्वर का आशीर्वाद प्राप्त करें। सभी को अच्छी तरह से याद है कि 2017 के विधानसभा चुनाव में मायावती बार-बार कभी मीडिया के सामने जाकर तो कभी ट्वीटर के माध्यम से ऊटपटांग बयानबाजी करती रही हैं। दरअसल, तब भी उनको हार का अहसास था और आज भी हार का आभास है।

यह भी पढ़ें:जयाप्रदा ने आजम के विवादित बयानों पर साधा निशाना

यह भी पढ़ें:कांग्रेस के लखनऊ से प्रत्याशी आचार्य प्रमोद कृष्णम ने नामांकन दाखिल किया।

leave a reply

राजनीति के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी