भाजपा कर रही जूतों की राजनीति: अनिल दुबे

Foto

Political News/ राजनीति के समाचार 


लखनऊ। राष्ट्रीय लोकदल के राष्ट्रीय प्रवक्ता अनिल दुबे ने कहाकि महागठबंधन के प्रति जनता के भारी रूझान को देखकर भारतीय जनता पार्टी डर गयी है। गठबंधन में मतभेद पैदा करने के लिए तरह तरह के हथकण्डे अपना रही है। उन्होंने कहा कि पिछली 7 अप्रैल को देवबंद में हुयी महागठबंधन की रैली की ऐतिहासिक सफलता और रैली में बसपा और सपा द्वारा रालोद नेताओं को सबसे अधिक सम्मान दिया जाना तथा चौ अजित सिंह को देवबंद रैली में अन्तिम वक्ता का सम्मान दिये जाने के बाद भारतीय जनता पार्टी बौखलाई हुयी है।

उन्होंने कहा कि भाजपा के आईटी प्रकोष्ठ के माध्यम से मीडिया, सोशल मीडिया में यह भ्रामक प्रचार प्रसार कर रही है कि देवबंद रैली में चौ अजित सिंह को जूते उतारने को कहा गया। श्री दुबे ने मीडिया में आयी खबरों को निराधार, असत्य एवं भ्रामक करार दिया। बताया कि उक्त रैली में चौ अजित सिंह से जूते उतारने को किसी ने नहीं कहा।समाचार पत्रों और इलेक्ट्रानिक मीडिया में जो दृश्य उपलब्ध हैं, उनसे यह स्पष्ट है कि सभी रैलियों में राष्ट्रीय लोकदल के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष जयंत चौधरी जी जूते पहने हुये हैं।

उन्होंने कहा कि दरअसल, भारतीय जनता पार्टी गठबंधन की मजबूती से डरी और सहमी हुयी है। गठबंधन को कमजोर करने के लिए असफल प्रयास लगातार कर रही है। उन्होंने कहा कि सपा, बसपा और रालोद तीनों संगठनों के कार्यकर्ताओं ने जमीनी स्तर पर सही समझ हासिल की और भाजपा के हर कुचक्र का जवाब देने में सक्षम है।किसान विरोधी ताकतों को परास्त करने के लिए मजबूती से लगे हैं। यही वजह है कि भयभीत होकर भाजपा अपने आईटी सेल के सहारे देश की अर्थव्यवस्था और किसानों से सम्बन्धित महत्वपूर्ण मुद्दों से जनता का ध्यान भटकाने के लिए जूतों की राजनीति पर उतर आयी है।

यह भी पढ़ें: आजम खां का विवादित बयान, सियासत में भूचाल

यह भी पढ़ें: कांग्रेस ने 18 लोकसभा सीटों पर उम्मीदवार घोषित किए    

leave a reply

राजनीति के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी