राजभर जी को बीजेपी में ही रहने दीजिए:अखिलेश

Foto

राजनीति के समाचार/political news

कहा वे ही एक सच बोलने वाले मंत्री हैं

लखनऊ। बीजेपी के खिलाफ एक बार फिर से मोर्चा खोल चुके योगी सरकार के कैबिनेट मंत्री व सुभासपा के अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर जहां सारे विकल्प खुले होने की बात कर रहे हैं वहीं सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने इशारों ही इशारों में ये संकेत दे दिये कि उनका इरादा राजभर को गठबंधन में शामिल करने का नही है।

सपा कार्यालय में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए सपा प्रमुख ने कहा कि उनका बीजेपी में रहना जरुरी है क्योंकि एक वे ही हैं जो हमें बीजेपी की सच्चाई बताते हैं,पूर्व सीएम ने कहा कि एक मंत्री ही ऐसा है कि वो बताता है कि थानों में उगाही हो रही है और बीजेपी को आईना दिखाने का काम करते हैं।

बीजेपी से उनकी नाराजगी और गठबंधन में उनके आने की संभावना पर पूर्व सीएम ने मजाकिये लहजे में कहा कि वो ऐसा नही करेंगे नही तो फिर इस सरकार की हकीकत कौन बतायेगा। बता दें कि बीजेपी हाईकमान पर एक बार फिर से इस समय सुभासपा अध्यक्ष नाराज हैं और उन्होने कल बीजेपी को एक बार फिर से अल्टीमेटम दिया था कि अगर उसने जल्द ही सीटों का बंटवारा नही किया तो वह उससे तुरन्त किनारा कर लेंगे।

राजभर ने किस ओर जाने के सवाल पर कहा था कि उनकी सभी से बात हो रही है वे गठबंधन में भी जा सकते हैं और कांग्रेस में भी। यूपी में बसपा के साथ गठबंधन करके बीजेपी के लिए मुश्किलें बढ़ा चुके सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने मंगलवार को इशारों में ये संकेत दे दिये कि वो राजभर को सपा में शामिल नही करेंगे। इसके लिए पूर्व सीएम ने हथियार बनाया राजभर के बागी तेवरों को। सपा प्रमुख ने कहा कि इस सरकार में एक वे ही मंत्री हैं जो सच बोलते हैं और बीजेपी को आईना दिखाने का काम करते हैं।

उन्होने कहा कि राजभर जी को बीजेपी मे रहने दिया जाये ताकी जनता के सामने  समय समय पर बीजेपी की सच्चाई आती रहे। सोशल मीडिया पर ज्यादा एक्टिव रहने के सवाल पर पूर्व सीएम ने कहा कि 10 लाख नए युवा वोटर्स समाजवादी पार्टी को ही वोट देंगे इसीलिए समाज पार्टी में युवाओं को लैपटॉप बांटे हैं कोई भ्रम नहीं होगा युवा का पूरा वोट समाजवादी पार्टी को होगाI

यह भी पढ़ें:   हम कांग्रेस की तरह आतंकियों को बिरयानी नही खिलाते,सफाया करते हैं:सीएम योगी

यह भी पढ़ें:    राजभर ने फिर से दिया बीजेपी को अल्टीमेटम

leave a reply

राजनीति के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी