संविधान को नही मानते हैं बीजेपी के लोग:हार्दिक पटेल

Foto

राजनीति के समाचार/political news

सपा प्रमुख के साथ पाटीदार नेता ने बीजेपी पर बोला हमला

लखनऊ। देश में लोग बीजेपी के शासन से बुरी तरह से त्रस्त हैं और उनसे छुटकारा चाह रहे हैं,देश मोदी सरकार से नही बल्कि संविधान से चलता है पर बीजेपी के लोग संविधान को नही मानते हैं। सपा बसपा का गठबंधन स्वागत योग्य है और काफी मजबूत है ये गठबंधन ही बीजेपी को यूपी में हरा सकता है। उक्त विचार गुजरात के पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने सपा कार्यालय में सपा प्रमुख अखिलेश यादव के साथ संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस में व्यक्त किये।

गुजरात के पाटीदार नेता ने कहा कि मै यूपी दौरे पर हूं और कल मै प्रतापगढ़, सुल्तानपुर, मिर्जापुर व सोनभद्र गया था हर जगह पर लोग बीजेपी से काफी नाराज हैं। पटेल ने कहा कि मै हर उस व्यक्ति के साथ हूं जो देश में संविधान बचाने की लड़ाई लड़ रहे हैं।

पुलवामा हमल ेपर उन्होने कहा कि मैने सपा प्रमुख अखिलेश यादव से सीआरपीएफ के जवानों को पूर्ण सैनिक का दर्जा देने की मांग उठाने के लिए कहा है और हमें उम्मीद है वे इस पर विचार करेंगे। पुलवामा में जवानों की सुरक्षा पर सवाल उठाते हुए उन्होने कहा कि जब कोई वीआईपी जाता है तो आधा घण्टा पहले ही सड़क बंद करावा दी जाती है तो फिर सीआरपीएफ के जवानों को जिस सड़क से जाना था उसे क्यो नही बंद किया गया।

उन्होने मांग की कि इसकी भी जांच होनी चाहिए और इसमे जो भी दोषी हो उस पर कार्यवाई की जानी चाहिए। पटेल ने कहा कि पीएम गुजरात माडल की बात करते हैं उसी गुजरात में आज भी 20 जिलों में सिंचाई के लिए पानी नही है। उन्होने कहा कि इस सरकार ने गुजरात माडल दिखाकर देश का बुरा हाल कर दिया है।

जो भी सरकार से सवाल पूछता है उसे देशद्रोही करार दे दिया जाता है। पटेल ने कहा कि हम लोगों को इन लोगों से देश भक्ति सीखने की जरुरत नही है। पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने हार्दिक पटेल की तारीफ करते हुए कहा कि उन्हे नौ महीने जेल मे रखा गया और छह माह गुजरात में घूसने नही दिया गया है। सपा प्रमुख ने कहा कि वे संघर्ष करके यहां तक पंहुचे हैं। उन्होने पुलवामा हमले पर बीजेपी सरकार को घेरते हुए कहा कि पूरा देश जहां इस हमले पर दुखी है वहीं बीजेपी के लोग उद्घाटन व शिलान्यास कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें:   सपा प्रमुख ने समाजवादियों को दिया ये नया नारा

यह भी पढ़ें:    क्या अमेठी में विरासत पर भारी पड़ेगी प्रतिष्ठा की लड़ाई?

leave a reply

राजनीति के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी