सपा का मुकाबला न कांग्रेस कर सकती है और न बीजेपी-अखिलेश

Foto

राजनीति के समाचार/political news

एमपी में सिर चढ़कर बोला सपा प्रमुख का जादू,सपा प्रवक्ता ने कहा कि एमपी रहा है समाजवादियों का गढ़

लखनऊ। मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनाव की घोषणा के साथ ही राजनीतिक हलचल तेज हो गयी है जनता बीजेपी व कांग्रेस दोनों के खेल से परिचित हो चुकी है और बदलाव चाहती है। एमपी में लोगों ने सपा प्रमुख अखिलेश यादव की नीतियों पर आस्था जतायी है,जिसकी झलक वहां पर पूर्व सीएम के साथ जनता के संवाद में साफ दिखी। उक्त विचार पूर्व सीएम अखिलेश यादव के साथ एमपी के दौरे से लौटने के बाद सपा प्रवक्ता व पूर्व मंत्री राजेंद्र चौधरी ने व्यक्त किये।

सपा प्रवक्ता ने कहा कि अखिलेश यादव लगातार मध्य प्रदेश के विभिन्न अंचलों में जाकर जो जनसंवाद स्थापित किया है उससे लोगों में विश्वास जगा है कि अब समाजवादी नीतियों से आशा की जा सकती है।

 

यह भी पढ़ें:  देश की जनता को नही बल्कि पूंजीपतियों को लाभ पहुचाने का काम कर रहे हैं...

 

उन्होने बताया कि अखिलेश ने मध्य प्रदेश में भोपाल,सतना,रीवां,खजुराहो, पन्ना, सीधी, बालाघाट, शहडोल जाकर जनसभाएं एवं सघन दौरा किया। और उत्तर प्रदेश में समाजवादी सरकार के विकास कार्यों की जानकारी दी। उससे लोगों को लगा कि विकास और प्रगति के एजेण्डा पर अखिलेश ही प्रभावी कदम उठा सकते हैं और गरीबी, भूख, बीमारी के खिलाफ लड़ाई जीत सकते हैं।

मध्य प्रदेश वैसे भी समाजवादियों का गढ़ रहा है। समाजवादी आंदोलन के महानायक डाॅ. राम मनोहर लोहिया से अभिप्रेरित समाजवादी आंदोलन ने मध्य प्रदेश को नई दिशा दी थी। मामा बालेश्वर दयाल ने यहां रतलाम में आदिवासियों के बीच रहकर उनके जीवन को सुधारने का काम किया था। मध्य प्रदेश की जनता ने तब कई समाजवादियों को जिताकर संसद और विधानसभा में भेजा था। आज फिर वैसे ही तरंग उठ रही है।

श्री चौधरी ने कहा कि  दरअसल समाजवादी पार्टी अपने काम के बल पर मध्य प्रदेश के चुनावों में प्रभावी दस्तक देने जा रही है। भाजपा सरकार के काले कारनामों की यहां जगह-जगह चर्चा होती है और लोग अब सरकार बदलने के लिए बेकरार हैं। 

 

यह भी पढ़ें:   डबल इंजन वाली बीजेपी सरकार का असली चेहरा आया सामने: मसूद अहमद

 

खजुराहो में हजारों का जन सैलाब उमड़ पड़ा था। सपा प्रमुख ने यहां स्पष्ट किया कि भाजपा सिर्फ सोशल मीडिया पर सक्रिय है। आम जनता उससे ऊबी हुई है। समाजवादियों का मुकाबला न कांग्रेस कर सकती है और नहीं भाजपा। भाजपा काम बिगाड़ती है,नफरत फैलाती है जबकि समाजवादी काम करना चाहते हैं। दो इंजन की सरकारों का बुरा हाल है। 

भाजपाई नैतिकता और ईमान की भावनात्मक बातें खूब करते हैं किन्तु वास्तविकता यह है कि मध्य प्रदेश चार गुना कम आबादी होने के बावजूद मध्य प्रदेश में उत्तर प्रदेश से चार गुना ज्यादा पशु वधशालाएं (स्लाटर हाउस) खुले हुए है। मध्य प्रदेश में उचित चिकित्सा व्यवस्था के अभाव में बीमार लोगों की मौतें थमने का नाम नहीं ले रही है। यहां स्वास्थ्य सेवाएं पूरी तरह ध्वस्त हो गयी हैं। 

leave a reply

राजनीति के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी