यूपी के बाहर भी सपा बसपा की दोस्ती रहेगी कायम

Foto

राजनीति के समाचार/political news

एमपी व उत्तराखण्ड में साथ चुनाव लड़ने का किया एलान

लखनऊ। लोकसभा चुनाव से पहले सपा बसपा ने गठबंधन करके सभी विपक्षी पार्टियों के जहां होश उड़ा दिये थे वहीं अब ये गठबंधन यूपी के बाहर भी दोस्ती निभाता नजर आयेगा। लोकसभा चुनाव के लिए सपा बसपा ने यूपी के बाद एमपी और उत्तराखण्ड में साथ चुनाव लड़ने का एलान कर दिया है।

यूपी में सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने भले ही सपा के गठबंधन पर सवाल उठाये हों पर सपा प्रमुख अखिलेश यादव गठबंधन में सपा का भविष्य देख रहे हैं उनका मानना है कि इस गठबंधन से यूपी व अन्य राज्यों में चुनाव के समीकरण बदलेंगे और यह गठबंधन काफी ताकतवर बनकर उभरेगा।

अभी हालही में सपा बसपा ने यूपी में अपनी अपनी सीटों की सूची जारी की है जिसके साथ प्रत्याशियों के चयन का काम भी दोनो दलों ने तेज कर दिया है। इसी बीच सपा बसपा ने अपनी दोस्ती को और आगे बढ़ाते हुए दूसरे राज्यों में भी साथ मैदान में जाने का निर्णय कर सभी को चौका दिया है।

उत्तराखण्ड की पांच लोकसभा सीटों में से एक पर सपा और चार पर बसपा चुनाव लड़ेगी। मध्य प्रदेश में 29 लोकसभा सीटों में से तीन पर सपा और 26 पर बसपा चुनाव लड़ेगी। उत्तराखण्ड में पौड़ी गढ़वाल की सीट सपा के खाते में गयी है वहीं एमपी में बालाघाट,खजुराहो व टीकमगढ़ लोकसभा सीट पर सपा अपना भाग्य अजमायेगी।

सपा बसपा के सूत्रों से जो संकेत मिल रहे उससे साफ है कि अन्य राज्यों में भी दोनों दलों की दोस्ती नजर आ सकती है। इसमें राजस्थान व छत्तीसगढ़ में भी सपा बसपा साथ साथ चुनाव लड़ सकते हैं। सपा पहले ही कह चुकी है कि वह यूपी के बाहर भी पार्टी का विस्तार करने की तैयारी कर रही है इसी क्रम में विधानसभा चुनाव में सपा एमपी,राजस्थान व छत्तीसगढ़ में चुनाव में अपनी उपस्थिति दर्ज करा चुकी है हालाकि उसे इन चुनावों में वां​छनीय सफलता नही मिली थी।

यह भी पढ़ें:  किसान निधि योजना का आगाज़, मुख़्तार अब्बास ने बांटे प्रमाण पत्र

यह भी पढ़ें:   सपा के पूर्व दर्जा प्राप्त राज्य मंत्री प्रसपा में शामिल

leave a reply

राजनीति के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी