योगी व मायावती के प्रचार पर रोक लगाने क बाद आजम पर कार्यवाई के संकेत

Foto

राजनीति के समाचार/political news

नेताओं के सीमाएं लांघने पर चुनाव आयोग हुआ सख्त

नई दिल्ली। चुनावी रैलियों में जातिगत टिप्पणी के मामले पर अब चुनाव आयोग बेहद सख्त हो गया है और सीएम योगी व बसपा प्रमुख मायावती के ऊपर क्रमश: 72 घण्टे और 48 घण्टे की रोक लगा कर साफ तौर पर दर्शा दिया है कि जिसने भी सीमाएं लांघने का प्रयास किया उस पर कार्यवाई की जायेगी। वहीं रामपुर में सपा प्रत्याशी व पूर्व मंत्री आजम खान के द्वारा बीजेपी प्रत्याशी जयाप्रदा पर की गयी अश्लील टिप्पणी पर भी आयोग ने संज्ञान लिया है और उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज करा दिया गया है।

गौरतलब  है कि सीएम योगी आदित्यनाथ ने एक जनसभा में एक खास संदर्भ में हरा वायरस और बजरंगबली शब्द का इस्तेमाल किया था। सीएम के भाषण के बाद से विपक्ष लगातार उस पर हमलावर था और आयोग ने भी इसका संज्ञान लिया।

इसी तरह से बसपा सुप्रीमो मायावती ने गत 7 अप्रैल को देवबंद,सहारनपुर में गठबंधन की संयुक्त रैली को संबोधित करते हुए कहा था कि मुस्लिम अपने वोट को बटने ना दें और एकजुट होकर गठबंधन प्रत्याशी को वोट करें। आयोग ने 11 अप्रैल को नोटिस जारी कर जवाब मांगा था और अब आयोग ने मायावती पर 48 घण्टे तक प्रचार करने की रोक लगा दी है।

आपको बता दें कि बसपा सुप्रीमो मायावती 16 अप्रैल को आगरा में चुनावी रैली करने वाली थीं जिसका कार्यक्रम जारी कर दिया गया था। इसी तरह से रामपुर से सपा प्रत्याशी आजम खान ने एक जनसभा में सारी सीमाएं लांघते हुए बीजेपी प्रत्याशी व फिल्म अभिनेत्री जयाप्रदा पर अश्लील टिप्पणी कर डाली है। आजम की टिप्पणी पर चारों ओर मचे बवाल के बाद आयोग ​के निर्देश पर उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। आयेाग ने आजम के भाषण की सीडी भी तलब की है और सख्त कार्यवाई के संकेत दिये हैं।

यह भी पढ़ें:    आजम खान  का बयान महिला सम्मान पर प्रहार, दर्शना सिंह  

यह भी पढ़ें:    भाजपा कर रही जूतों की राजनीति: अनिल दुबे

leave a reply

राजनीति के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी