कालीबाड़ी में नवरात्र की तैयारियां तेज, पश्चिम बंगाल की लाईट होगी आकर्षण का केन्द्र

Foto
Lucknow News/लखनऊ समाचार

Lucknow. भक्तों की माता दुर्गा के प्रति आस्था का केन्द्र घसियारीमण्डी कैसरबाग स्थित कालीबाड़ी मन्दिर बनेगी। इस बार मंदिर में शारदीय नवरात्रि की तैयारियां तेजी से शुरु हो चुकी हैं। पूरे नवरात्रि तक पश्चिम बंगाल कोलकाता की डिजिटल मूविंग लाइट आकर्षण का केन्द्र मंदिर में बनी रहेगी। माता के धाम में नवरात्रि का उत्सव 8 से 19 अक्टूबर तक धूमधाम से मनाया जाएगा।

यह भी पढ़ें...जानें किस तरीके से करा सकते हैं, अपने आधार नम्बर को बैंक अकाउंट से डीलिंक

माता की पूजा में होंगे ये कार्यक्रम
 
काली बाड़ी टेम्पल ट्रस्ट के अध्यक्ष गौतम भट्टाचार्या ने बताया कि 8 अक्टूबर को शाम बजे मन्दिर में महिषासुर मर्दिनी की संगीतमय प्रस्तुति के साथ उत्सव का आगाज होगा। इसी के साथ मन्दिर के आस-पास करीब आधा किलोमीटर में लगी कोलकाता की लाइट भी अपनी रोशनी से लोगों लुभायेगी। आठ को ही शाम को दूरदर्शन के कलाकार रंजन भट्टाचार्य एवं उनकी टीम द्वारा आयोजित होगा। 10 को नवरात्र का पहला पूजन होगा, 15 अक्टूबर को षष्ठी विहित पूजा सुबह 8ः56 तक होगी। 16 को सप्तमी पूजन सुबह 9ः27 तक होगी। 17 अक्टूबर को अष्टमी पूजन सुबह 8ः31 मिनट तक होगी। संधि पूजन उसी दिन दोपहर 12ः03 से 12ः51 तक होगी। 18 को नवमी पर सुबह 6ः27 मिनट तक पूजन के बाद परंपरा के अनुसार दोपहर 2ः30 बजे अजय बोस एवं गोपी नाथ हालदार द्वारा आयोजित बंगाल से आए ढाकियों की दिलचस्प और पारंपरिक विशाल प्रतियोगिता होगी। 

यह भी पढ़ें...50 पैसे के बराबर हुआ पाकिस्तानी रुपया

दुर्गोत्सव में बिखेरेंगे जादू 

उन्होंने बताया कि शहर कि विभिन्न दुर्गोत्सव समितियों में शामिल होने आए ढाकिये अपने फन का जादू बिखेर कर पुरस्कार हासिल करेंगे। 19 को दशमी पर 8ः31 पर दर्पण विसर्जन होगा। 24 की शाम को कोजागरी लक्ष्मी पूजन किया जाएगा। नवरात्री में प्रतिदिन सायं आरती के बाद व्रत का प्रसाद वितरित किया जाएगा। अष्टमी पर विशाल भंडारा दोपहर 2 बजे से होगा। 8 अक्टूबर को अमावस्या पर हवन पूजन भी होगा। मंदिर मार्ग से गुजरने वाले दुर्गा प्रतिमा विसर्जन जुलूस में शामिल लोगों का स्वागत छोला, बूंदी ही नहीं खासतौर से बंगाली तरीके से बनी घुगनी से किया जाएगा। कमेटी में शामिल सचिव अशोक कुमार राय, उपाध्यक्ष गोपीनाथ हलदर और वरिष्ठ सचिव डा. प्रभात कुमार मैती ने बताया कि मंदिर में बली पूरी तरह से निषेध है। इसलिए वहां पूरे नवरात्र व्रतधारी पूजन अनुष्ठान में भाग ले सकेंगे। मुख्य पुजारी रूपनाथ महापात्र संग अमित गोस्वामी और प्राण गोपाल मिश्र पूजन अनुष्ठान सम्पन्न करवाएंगे।

leave a reply

सरोकार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी