अपराध पर अंकुश लगाने मे नाकाम साबित हो रहे हैं एसएसपी

Foto

राज्यों के समाचार/state news

सरकार बदलने के बाद भी थानों में जमे हैं पूर्व सरकार के चहेते

राहुल तिवारी 

लखनऊ। राजधानी में लगातार अपराध दिन पर दिन बढ़ता जा रहा मानों राजधानी सहित आसपास के थाना क्षेत्रों में अपराध की बाढ़ सी आ गई है लेकिन एसएसपी लखनऊ कलानिधि नैथानी अपराध पर अंकुश लगाने में पूरी तरह से नाकाम साबित हो रहे हैं।

इतना ही नहीं पुलिस महकमे के लोगों में भी एसएसपी के प्रति खासी नाराजगी है लेकिन डीजीपी के चहेते एसएसपी को कौन कहने सुनने वाला,हां इतना जरूर है कि शासन के अन्दर एक ट्रांसफर निति भी बनी है लेकिन एक पुरानी कहावत है जनाब कि सैंया भए कोतवाल तो डर काहे का, यह तबादला निति भी उन्ही के लिए लागू होती है जो वास्तविक सरकार की निति को फालो करते हैं।

लोकसभा चुनाव करीब है आज थानों व चौकी पर पूरी तरह से पूर्ववर्ती सरकारों चाहे वह सपा हों या बसपा इन सरकारों के समर्थक से लेकर इन्स्पेक्टर से लेकर चाहे वह चौकी प्रभारी हो या फिर सिपाही सभी को लखनऊ के थानों में तैनात किया जा रहा है।

लेकिन जो पुलिस कर्मी सरकार की नीतियों के अनुसार काम करना चाह रहे हैं वो या तो लाइन में पड़े हैं या फिर उनका तबादला किया जा रहा है। शायद यही कारण होगा कि भाजपा को लखनऊ जिले के दोनों संसदीय क्षेत्र से चुनाव लड़ने में काफी मुश्किल खड़ी हो सकती है।

आपको ध्यान दिलाना चाहता हूं पूर्ववर्ती सपा सरकार में कलानिधि कन्नौज के एसएसपी रहने के दौरान वहां के भाजपा सांसद प्रत्याशी सुब्रत पाठक सहित तमाम भाजपाइयों पर मुकदमा दर्ज करने का काम किया था।

बरेली में भी कानून व्यवस्था को सम्भालने में वह काफी नाकाम साबित हुए थे इसके बाद भी उन्हे लखनऊ का चार्ज दे दिया गया। अपनी तानाशाही में मशहूर एसएसपी लखनऊ भाजपा के माननीय चाहे वह सांसद हो या मंत्री इनकी भी नहीं सुनते तो कार्यकर्ताओं को कितना तबज्जो देते होंगे इसका अंदाजा खुद ब खुद लगाया जा सकता है।

यह भी पढ़ें:   नालियां व सड़कों पर पड़े कूड़े के ढेर, करोड़ों डकार रही कंपनियां

यह भी पढ़ें:   हिटलर बनीं खंड शिक्षा अधिकारी, शिक्षकों में रोष

leave a reply

राज्यों के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी