सीएम के आदेश भी मायने नही रखते हैं बंथरा पुलिस के लिए

Foto

राज्यों के समाचार/state news

पीड़ित को न्याय दिलाने के बजाये टरकाने का काम कर रही है पुलिस

राहुल तिवारी

लखनऊ। प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भले ही उत्तर प्रदेश में कानून का राज स्थापित करने का पाठ अपने अधिकारियों को पढ़ा रहे हों लेकिन सूबे में बैठे आलाधिकारी अपने मुखिया के मंसूबे पर किस तरह पानी फेरने का काम कर रहे हैं इससे बड़ी नजीर पुलिस महकमे से ज्यादा कहीं और नहीं देखी जा सकती है। 

बात प्रदेश की हो या या फिर राजधानी लखनऊ की आपराधिक घटनाएं काफी तेजी से बढ़ रही है आखिर क्यों ? इसका मतलब कहीं न कहीं कोई कमी जरूर है जी हां शायद इसका सबसे बड़ा कारण है स्थानीय पुलिस छोटे मामलों में ज्यादा रूचि नहीं लेती और पीड़ित को टरकाने का काम करती है।

जिससे पीड़ित पक्ष तो मायूस होकर बैठ ही जाता है और विपक्षी अपने आप को ताकतवर समझ लेता है और आगे चलकर इन्ही विपक्षीगणो के हौसले काफी बुलन्द हो जाते हैं और एक बड़ी घटना होने की सम्भावना बन जाती है। शायद यह स्वभाविक भी है क्योकि पुलिस को जो मोटा माल जो मिल चुका होता है।

लखनऊ के बन्थरा थाने का हाल कुछ ऐसा ही बयां करता है जहां मौजूद दरोगा व सिपाही पीड़ितों को न्याय दिलाने की वजाय उनको टरकाने का काम करते हैं जिसके चलते गरीब पीड़ित परिवार न्याय की दरकार कर आखिर चुपचाप बैठ जाता है और अगर ज्यादा दबाव पड़ता है तो यही बन्थरा पुलिस विपक्षी गणो के खिलाफ मुकदमा पंजीकृत करने के साथ पीड़ित पक्ष पर भी मुकदमा दर्ज कर देती है।

बन्थरा थाने की पुलिस चौकी हरौनी के मिर्जापुर लटुआ की घटना कुछ इसी हकीकत को बयां करती है वहीं दूसरी घटना इसी थाने के एक गांव की है जहां होली के दिन गांव के ही कुछ दबंगों ने गांव के ही एक दलित परिवार की बेटी को रंग लगाने के बहाने छेड़छाड़ की व अश्लील हरकतें भी की जब इसका विरोध पीड़ित लड़की के पिता ने किया तो दबंगों ने उसके पिता को भी बुरी तरह से मारा पीटा जिसकी लिखित शिकायत थाने में की गई लेकिन मुकदमा आज भी दर्ज नहीं हुआ।

अगर देखा जाए तो मौजूदा हालात बन्थरा थाने के काफी शर्मिन्दा जनक हो चुके हैं अभी हाल ही में पशु तस्करों ने लगभग एक दर्जन गौवंशो की हत्या कर दी उसके तुरंत कुछ दिन बाद ही ऊबर ड्राइवर की हत्या कर हमलावर फरार हो गए जो अभी तक पुलिस की गिरफ्त से दूर है।

कारण काफी दिनों से इसी थाने में तैनात दरोगा व रिपोस्टिग सिपाही जो अपना जलवा पूरे क्षेत्र में बिखेर चुके हैं लेकिन इनको देखने वाला कोई नहीं है क्या ऐसे रसूखदार पुलिस कर्मियों पर पुलिस नियमावली की निति लागूं नहीं होती गौवंश से लेकर तमाम अवैध कारोबार इसी थाना क्षेत्र बन्थरा में चल रहे हैं लेकिन जिसमें पुलिस का इन कारोबारियों पर सरंक्षण जो प्राप्त है I

अब ऐसे में कौन सुने और कौन कहे वहीं इसी थाना क्षेत्र की पुलिस चौकी हरौनी को देखा जाए तो यहां भी एक जनाबे आली चौकी प्रभारी कहां से आ धमके जो भाजपा कार्यकर्ताओं पर तो ऐसे नाराज़ हैं मानों भाजपाइयों से इनकी पुरानी जमीन का कोई वाद विवाद चला आ रहा हो।

हां इतना जरूर है कि अब सपा बसपा गठबंधन के लोगों के लिए प्रचार प्रसार काफी कम जरूर करना पड़ेगा काहे को साहब खुद प्रचार प्रसार करने में अपनी अहम भूमिका निभाते नजर आ रहे हैं।क्या पुलिस बिभाग इसी तरह सरकार के आदेश का पालन करेगा क्या सरकार द्वारा गरीबों पीड़ितों को न्याय दिलाने के इस सपने को पूरा कर के दिखायेगी बन्थरा पुलिस या राजधानी पुलिस लेकिन आज के हालातों को देखकर तो यही लगता है कि यूपी पुलिस सरकार के मंसूबों पर सिर्फ और सिर्फ पानी फेरने का काम कर रही है।

यह भी पढ़ें:    अगर सीएम योगी नही मिले तो कर लूंगा आत्मदाह

यह भी पढ़ें:    भारी मात्रा में अवैध शराब के साथ चार तस्कर गिरफ्तार

leave a reply

राज्यों के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी