दर्जनों किसानों की 200 बीघे से भी अधिक फसल जलकर खाक

Foto

राज्यों के समाचार/state news

दमकल की 4 गाड़ियों ने आग पर पाया काबू

राहुल तिवारी

लखनऊ। स्थानीय थाना क्षेत्र में संदिग्ध परिस्थितियों में गेहूं की फसल में लगी भीषण आग की वजह से दर्जनों ग्रामीण किसानों की 200 बीघे से अधिक फसल जलकर पूरी तरीके से राख में तब्दील हो गई इसकी सूचना ग्रामीणों ने बंथरा पुलिस एवं फायर स्टेशन पर दी लेकिन जब तक मौके पर दमकल की गाड़ियां पहुंचती तब तक गेहूं की फसल जलकर खाक हो चुकी थी। 

बंथरा थाना क्षेत्र के चक अमावा में शुक्रवार की दोपहर करीब 12:30 बजे गेहूं की फसल में आग अचानक लग गई जिसकी भनक जब ग्रामीणों को लगी तो खेतों की और आग बुझाने के लिए दौड़ पड़े लेकिन आग ने इतना भीषण रूप अपना लिया की ग्रामीणों के बुझाने की बस की बात नहीं रही।

आनन फानन में इसकी सूचना किसानों ने थाने पर पुलिस एवं फायर स्टेशन के कर्मचारियों को दी लेकिन जब तक सूचना पाकर मौके पर दमकल की गाड़ियां पहुंचती तब तक राख के ढेर में सैकड़ों बीघा गेहूं की फसल तब्दील हो चुकी थी। दोपहर को लगी आग पहले चक अमावां गांव में खड़ी गेहूं की फसल में लगी उसके बाद धीरे धीरे ऐंन ग्राम सभा तक जा पहुंची।

ग्रामीण किसान अमावा के शमशेर सिंह,सुरेश कुमार, राम आसरे, गया प्रसाद, सत्येंद्र कुमार, कन्हैया लाल, ज्ञानेंद्र सिंह, भगत सिंह, तेज नारायण सिंह, सियाराम वर्मा, राजेश वर्मा, रामप्रसाद, देवेंद्र, कालीचरण, चंदन लाल, भगवती प्रसाद, अजय कुमार, अशोक कुमार, बाबूलाल, राम शंकर, सुंदरलाल, अरुण कुमार, अनूप कुमार, सत्रोहन, ओंमकार, अजय कांत रविकांत, बलवंत, फूलचंद, जगनू,कैलाशी देवी, छोटई, कहदेवी, योगेश चंद्र, कन्हैया लाल तथा मवई पडियाना के शिव बिहारी, राम रतन सहित अन्य दर्जनों किसानों कि 200 बीघे से अधिक फसल जलकर पूरी तरीके से खांक हो गई।

ग्रामीण किसानों ने बताया कि यह आग का तांडव चक अमावां से शुरू हुआ और देखते ही देखते ऐंन ग्राम पंचायत में पहुंच गयीं जिसको कई ग्राम सभाओं के नागरिकों ने आग पर काबू पाने के लिए भरसक प्रयास किया और उसकी सूचना फायर स्टेशन पर भी दी गई लेकिन जब तक मौके पर दमकल की 4 गाड़ियां मौके पर पहुंची तब तक लाखों रुपए की गेहूं की फसल जल कर खाक में मिल गई।

आग किस वजह से लगी है इसका पता नहीं चल सका है लेकिन किसानों का मानना है कि कंपाउंड मशीन द्वारा गेहूं की मड़ाई का कार्य किया गया है इसी की चिंगारी से आग लगी है ऐसा प्रतीत होता है क्योंकि जिस समय गेहूं की फसल में आग लगी उसके डेढ़ घंटे पहले ही बिजली की सप्लाई ठप हो गई थी।

ग्रामीणों के मुताबिक दोपहर लगभग 12:30 बजे के आसपास आग लगी लेकिन बिजली 11:00 बजे दिन में चले जाने के बाद आग का तांडव खत्म हो जाने के बाद आई है इससे बिजली से आग नहीं लगी है और क्या कारण हो सकता है इसका पता नहीं लेकिन इतना जरूर है की विद्युत आपूर्ति की वजह से आगजनी की घटना नहीं घटित हुई है। 


नुकसान से सदमे मे आये किसान

आग के तांडव से खाक हुई लाखों रुपए की गेहूं की फसल की वजह से गरीब ग्रामीणों का दर्द कुछ इस तरह झलक रहा था कि आंखों में आंसू आ जाने की वजह से ग्रामीण अपनी पीड़ा बयां करते हुए फसल जल जाने का इतना गहरा सदमा था कि सही तरीके से उनकी जुबान से बात भी नहीं निकल पा रही थी। इतनी बड़ी घटना हो जाने के बाद क्षेत्र का कोई भी जनप्रतिनिधि इन ग्रामीण किसानों के घावों पर मरहम लगाने नहीं पहुंचा जिसका आक्रोश भी किसानों में दिखाई दिया।बताते हैं कि आग के हवाले हुई फसल में कुछ ग्रामीण इस तरह के भी हैं जिनकी पूरी फसल जलकर नष्ट हो गई और इनकी आर्थिक स्थिति बहुत खराब है इनकी जीविका अब कैसे चलेगी यह सोच कर परेशान है।

यह भी पढ़ें:   लंतरानी में सजेगी हास्य की अद्भुत महफ़िल

यह भी पढ़ें:    बीजेपी नेता जीवीएल नरसिम्हा के ऊपर हुए हमले के बाद अब हार्दिक पटेल को युवक...

leave a reply

राज्यों के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी