दिल्ली : सिगरेट नहीं पीने वालों के भी फेफड़ होने लगे खराब

Foto

State News / राज्य समाचार

नई दिल्ली। दीवाली से पहले ही राष्ट्रीय राजधानी में प्रदूषण खतरनाक स्तर पर पहुंच गया है। दिल्ली की हवा में इतना जहर भर गया है कि जो ​सिगरेट नहीं भी पीता है उसके भी फेफड़े खराब होने लगे हैं। ए​क​ रिपोर्ट के अनुसार 24 घंटे में 22 सिगरेट पीने जितना प्रदूषण यहां की आबोहवा में है।
दिल्ली में स्थित सर गंगा राम अस्पताल के फेफड़ों के सर्जन डॉ. अरविंद कुमार का कहना है कि दो दशक पहले उनके पास खराब फेंफड़े की शिकायत लेकर 9 मरीज ऐसे आते थे जो सिगरेट पीते थे। केवल एक मरीज़ ऐसा होता था जो सिगरेट नहीं पीता था। लेकिन अब दोनों के मरीज बराबर की संख्या में आते हैं। जाहिर है उनका यह अनुभव केवल नवंबर महीने का नहीं है​ बल्कि दिल्ली के साल भर के मौसम का है।

5 नवंबर को राजधानी दिल्ली में हवा सुरक्षित सीमा से बीस गुना अधिक खराब थी। दिल्ली के कई ​इलाकों में हवा की क्वालिटी गिरती जा रही है। बता दें कि दिल्ली में प्रदूषण बढ़ने का प्रमुख कारण पंजाब और हरियाणा में जलाई जाने वाली पराली है। साथ ही बढ़ते प्रदूषण के लिए गाड़ियां भी जिम्मेदार हैं। 

इस प्रदूषण के बचने के लिए इन तरीकों को अपनाएं—
  • गाड़ियों को कम से कम इस्तेमाल करे। 
  • आने जाने के लिए सार्वजनिक वाहनों का प्रयोग करें।
  • घर से बाहर मास्क लगाकर निकले।
  • खतरनाक प्रदूषण स्तर पर घर के बाहर कसरत करने से बचे।
  • घर में धूल मिट्टी जमा न होने दें। 
  • जब सांस लेने में परेशानी हो तुरंत डॉक्टर को दिखाएं।
  • घर में पौधे लगाएं जिससे आपको शुद्ध हवा मिल सके।
  • बाहर से घर वापस आने के बाद मुंह, हाथ और पैर साफ पानी से धोएं।
  • शुद्ध हवा के लिए घर में एयर प्यूरीफ़ायर लगवाएं।

यह भी पढ़ें: बढ़ते प्रदूषण पर 'गंभीर' तंज, 'दर्दे दिल, दर्दे जिगर दिल्ली में जगाया AAP ने'

 यह भी पढ़ें: दिल्ली : लगातार बढ़ रहा प्रदूषण स्तर, इन चीजों पर लगा है बैन

leave a reply

राज्यों के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी