केरल में मुस्लिमों की मदद मानवता की मिशाल: राज्यपाल

Foto

राज्यों के समाचार/state news

ऐशबाग ईदगाह पंहुचकर राज्यपाल ने प्रदेशवासियों को दी बकरीद की बधाई

लखनऊ। केरल में बाढ़ की विभिषिका ने आम जनजीवन को बुरी तरह से तबाह कर दिया है । खुशी की बात यह है कि पूरे देश से वहां के लोगों की मदद के लिए हांथ उठ रहे हैं और ऐसे में बकरीद पर होने वाले खर्च का दस फीसदी अंशदान केरल पीड़ितों के लिए करना मानवता की बेहतर मिसाल है। बकरीद का पर्व आपसी भाईचारे को मजबूत करने का संदेश देता है मै सभी प्रदेश वासियों को बकरीद पर्व की बधाई देता हूु। उक्त विचार प्रदेश के राज्यपाल रामनाईक ने ऐशबाग ईदगाह में व्यक्त किये। राज्यपाल ने इस अवसर पर पूर्व पीएम अटल को भी याद किया।

 

 

उन्होंने कहा कि जीवन सुख के साथ दुख भी देता है। लखनऊ से कई बार सांसद व तीन बार देश के पीएम रहे अटल जी का गत सप्ताह निधन हुआ। देश के लिए यह ऐसी रिक्तता बन गई है जिसकी भरपाई बेहद मुश्किल है। उनके जीवन के आदर्शों में मैने भी अपने जीवन में उतारा है और अपना आदर्श बनाया। उनका व्यवहार सबके साथ एक समान रहता था। मेरी नजर में यह एक अविश्वासनीय क्षति है। आज के दिन मै उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं।

 

ये भी पढ़ें:  सीएम योगी आदित्यनाथ ने 12 बसों में भेजी केरल को मदद

 

राज्यपाल राम नाईक ने कहा कि केरल अबतक की सबसे बड़ी प्राकृतिक आपदा झेल रहा है। टीवी में केरल के मंजर को देखकर अपार पीड़ा होती है, दिल दहलाने वाला मंजर दिखायी देता है। इस आपदा में फिंरगी महली का संदेश बेहद महत्वपूर्ण है।

उन्होंने मुसलमानों से अपील की है कि बकरीद पर आने वाले खर्च का 10 फीसदी केरल आपदा को भेजा जाएगा। यह सब सीएम आपदा कोस में जमा किया जाएगा। यह संकल्प पूरा करने के लिए भी कदम उठाने होंगे। उनका यह कदम भारतीय एकता का भी परिचायक है। 

राज्यपाल ने कहा कि मै प्रदेश की जनता को बकरीद की शुभकामनाएं देता हूं। आज मै यहां पर  आकर बेहद खुशी महसूस कर रहा हूं। उन्होंने कहा कि देश में तमाम त्यौहार मनाए जाते हैं और सभी त्यौहार भारत के सभी लोगों को एक साथ लाने का मौका देती हैं। इस अवसर पर उन्होंने मोहम्मद साहब के संदेश को पढ़ा। 

 

ये भी पढ़ें:   ये बकरीद है खास, जानवर नहीं केक कट रहे इस बार

 

 

 

उन्होंने कहा कि मोदम्मद साहब ने कहा था कि वह सही मुसलमान नहीं हो सकता है जो अपने घर में तो खूब खाता है लेकिन पड़ोस के भूखे को पूछता नहीं, उसे रोटी नहीं देता है। यह वह संदेश है जो लोगों में संजीदगी का संदेश देता है। एक बार फिर मै बकरीद की मुबारकबाद देता हूं। 

leave a reply

राज्यों के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी