पुलिस को बड़ी सफलता, खोज निकाली शराब की अनगिनत भट्टियां 

Foto

State News / राज्य समाचार


सुरेश दिवाकर

रामपुर। उत्तर प्रदेश में जहरीली शराब के प्रकोप के चलते हुई मौतों के बाद शासन और प्रशासन सतर्क हो गया है। पुलिस अफसरों की कुंभकरणी निंद्रा टूट गई है। जिसके बाद अधिकारियों ने अवैध रूप से चल रहे शराब के कारोबार पर नकेल कसना शुरु कर दिया। पुलिस और अबकारी विभाग की संयुक्त टीम द्वारा जगह-जगह छापेमारी की गई। इस दौरान पुलिस को अवैध रूप से चल रही भट्टियों का पता चला। छापेमारी करने पर पुलिस के हाथ कोई शराब माफिया तो हाथ नहीं आया, लेकिन भारी मात्रा में शराब बनाने के उपकरण और कच्चा माल बरामद हुए।

 


यहां मिली सफलता


जब पुलिस टीम पीपलीवन पहुंची तो नहल नदी के किनारे अवैध रूप से चल रही बेशुमार भट्टियां मिली। वहीं, मौके पर शराब बनाने के उपकरण और अन्य सामग्रियां पुलिस ने बरामद की। पुलिस ने बरामद सारी सामग्री को नष्ट कर दिया। अधिकारियों के अनुसार पुलिस द्वारा जनपद में निरंतर इस प्रकार की छापेमारी की कार्रवाई की जा रही है। लेकिन जंगली इलाका होने के कारण शराब माफियाओं पर नकेल कसने में समस्याएं भी आ रही हैं।  

 


वन विभाग भी आई साथ


अपर पुलिस अधीक्षक अरुण कुमार सिंह ने बताया कि जो लोग अवैध तरीके से शराब बनाने वालों के खिलाफ विरुद्ध अभियान चल रहा है। रात में भी धमोरा में चेकिंग की गई। अवैध शराब निर्माताओं के खिलाफ बिलासपुर थाना क्षेत्र के 2 गांव बेरखेड़ा और बेरखेड़ी बदनाम हैं। पुलिस और एक्साइज की संयुक्त टीम ने दबिश देकर यहां करवाई की है। उसके बाद टीम पीपली वन आई। यहां वन विभाग की टीम से भी सहायता ली गई। एक्साइज फॉरेस्ट और पुलिस की संयुक्त टीम ने नहल नदी के किनारे कच्ची शराब बनाने के अड्डे का भांडाफोड़ किया।

 


नष्ट किए लहन


पुलिस टीम को पीपलीवन के जंगली इलाके में बड़ी सफलता मिली। यहां ड्रम्स भट्टियां बड़ी मात्रा में बरामद हुए। जिनको नष्ट कर दिया गया। सथ ही कच्ची शराब बनाने के उपकरण और अन्य सामग्री प्राप्त हुई। छापेमारी के बारे में अफसरों ने बताया अभियान को जनपद में लगातार चलाया जा रहा है। नहर के किनारे जंगल के इलाके में आमतौर पर पुलिस की पेट्रोलिंग नहीं होती। अब इन इलाकों को भी चिन्हित कर छापेमारी की जा रही है।

 

यह भी पढ़ें: यूपी-उत्तराखंड में जहरीली शराब पीने से 34 की मौत

यह भी पढ़ें: अगले वर्ष तक पीने योग्य हो जाएगा गंगा का पानी

leave a reply

राज्यों के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी