पुलिस से भी गुंडागर्दी पर उतारू संगठन

Foto

अपराध के समाचार/crime news


बलराम सिंह

बाराबंकी। जिले में लगातार बढ़ते जा रहे भारतीय किसान यूनियन के संगठन अब अपनी गुंडागर्दी से पहचान बनाते जा रहे हैं। जिनके न सिर्फ पदाधिकारी खुलेआम ऐलानिया लोगों को जान से मारने की धमकी देते हैं, बल्कि संगठन से जुड़ी महिलाएं और पुरूष भी खुलेआम गुंडागर्दी पर उतारू हैं। ताजा मामला भारतीय किसान मजदूर दलित संगठन और कश्यप समाज पिछड़ा एकीकरण मंच का हैं। जहां पैसे के लेनदेन को लेकर एक दूसरे के खिलाफ मुकदमे भी दर्ज करवा दिए हैं। 

 


क्या है मामला


कश्यप समाज पिछड़ा एकीकरण मंच के संस्थापक व अध्यक्ष राजेश कश्यप को पुलिस के सामने गाली गलौज और जान से मारने की धमकियांं दी जा रही हैं। धममियां देने वाले भारतीय किसान मजदूर दलित संगठन के पदाधिकारी हैं। आरोप है कि संगठन के राधेलाल यादव व शोएब राइन सहित गुंडागर्दी पर उतर आए हैं। यही नहीं सहयोगी महिलाएं और पुरुष पुलिस को चुनौती देती नजर आ रही हैं। इनकी गुंडागर्दी इस कदर बढ़ गई है कि सबपर भारी है। हम आपको इनकी बदजुबानी तो नहीं सुना सकते लेकिन गुंडागर्दी पर उताररु हो चुके इनकी तस्वीरे जरूर दिखा रहे हैं, जो पुलिस के सामने ही तांडव कर रहे हैं। 

 

मांगे थे रुपए


एकीकरण मंच के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजेश कश्यप का कहना है कि लिखापढ़ी के अनुसार बीते वर्ष 30 दिसम्बर को थाना जहांगीराबाद अंतर्गत गनौरा निवासी अजय कुमार से उन्होंने अपने एक लाख दस हजार रुपये मांगे थे। रुपये न देना पड़े जिसके चलते दूसरे दिन उन्होंने अपने गांव के साथी विवेक और मंगल को लेकर उनके जिलाधकारी आवास के सामने स्थिति कार्यालय पर आए। कार्यालय में बैठे रंजीत गौतम को न सिर्फ मारा पीटा बल्कि सामुहिक विवाह कार्यक्रम की रखी फाइलें भी फाड़ दी। जिसकी लिखित शिकायत पर कोतवाली नगर में इन लोगों के खिलाफ उसी दिन धारा 323,504,506,406 के तरह मुकदमा दर्ज करवा दिया गया था।


लिखवा दिया फर्जी मुकदमा


उन्होंने बताया विवेचना अधिकारी के बुलाने पर वो कोतवाली नगर पहुंचे जहां पहले से ही राधेलाल यादव व शोएब राइन वहां मौजूद थे। उनके द्वारा पुलिस अधीक्षक से की गयी शिकायत में कहा गया कि ये दोनों लोग दबंग किस्म के लोग हैं। जिनका काम लोगों से पैसे लेकर झूठी पैरवी करना है। विपक्षियों की ओर से पैरवी करते हुए जान सेे मारने की धमकी देते हुए कहा गया जो मुकदमा लिखवाया गया हैं, उसे वापिस ले लो। ऐसा नहीं किया तो फर्जी एससीएसटी का मुकदमा लिखवा जेल भिजवा दिया जाएगा। उन्होंने बताया इसकी सूचना पुलिस अधीक्षक बाराबंकी को रजिस्टर्ड डाक द्वारा दिया गया। लेकिन धरना देकर पुलिस पर इन लोगों के द्वारा जबरन दबाव बनाकर पिछली 9 फरवरी को न सिर्फ उनके खिलाफ फर्जी मुकदमा लिखवाया गया, बल्कि उनके अन्य दो साथी पर भी मुकदमे दर्ज करवा दिए गए हैं। 

 


 जान से मारने की कोशिश

 

उन्होंने बताया कि फर्जी मुकदमे की शिकायत पुलिस अधीक्षक कार्यालय के बाद अपने कार्यालय लौट रहे थे, उसी दौरान इन लोगों ने रास्ते में ही जानलेवा हमला बोल दिया। सूचना पाते ही मौके पर पहुंची पुलिस के सामने ही ये लोग गुंडागर्दी पर उतर आए।  फिलहाल इस पूरे मामले की जांच कोतवाली पुलिस कर रही हैं। जल्द ही दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा। लेकिन जिस तरह से अब लोग संगठन के नाम पर  जबरन धरना देकर निर्दोष लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करवा रहे हैं, उससे साफ हैं जिसके खिलाफ जब चाहो प्रदर्शन कर फर्जी मुकदमा लिखवा दो। 
 

यह भी पढ़ें:   यूपी-उत्तराखण्ड में जहरीली शराब का कहर जारी,92 के पार पंहुची मरने वालों की...

यह भी पढ़ें:   शादी का दबाव बनाने पर डाक्टर ने की थी नर्स की हत्या

leave a reply

राज्यों के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी