प्रचार से दूर सीएम योगी पंहुचे राम की शरण में

Foto

राज्यों के समाचार/state news

अयोध्या में रामलला व हनुमान जी के दर्शन के साथ ही संतों से की मुलाकात

अयोध्या। अपने भाषण पर चुनाव आयोग के निशाने पर आने के बाद 72 घण्टों के प्रतिबन्ध का सामना कर रहे यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को अपने निजी कार्यक्रम के तहत अयोध्या पंहुच कर रामलला व हनुमान गढ़ी में बजरंग बली के दर्शन कर पूजा अर्चना की। बता दें कि प्रतिबन्ध के पहले दिन सीएम ने मंगलवार को राजधानी के हनुमान सेतु पंहुच कर हनुमान जी के दर्शन कर हनुमान चालीसा का पाठ किया था। 

चुनावी प्रचार से दूर होने के बाद सीएम काफी बदले हुए अंदाज में नजर आ रहे हैं, ना किसी पर आरोप प्रत्यारोप और ना ही ताबड़तोड़ दौरे। सीएम काअंदाज एंसा है कि वे हर सवाल का जवाब इस समय सिर्फ मुस्करा कर दे रहे हैं। सीएम योगी ने अयोध्या में सबसे पहले नगर की सूतहटी मलिन बस्ती में अनुसूचित महावीर के घर जाकर भोजन किया और परिजनों का हालचाल लिया।

सीएम के जाने के बाद महावीर की पत्नी ने कहा कि ये हमारे घर में भगवान के आने जैसा है। सावित्री ने बताया कि सीएम योगी ने उनकी बेटी नीतू के हाथ की बनी रोटी व भिंडी की सब्जी खाई और उसके पहले गुड़ खाकर पानी पिया। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री ने घर में बिना प्लास्टर हुए मकान व कमरे में बिजली के तारों को देखकर मकान का प्लास्टर कराने व वायरिंग कराने की बात कही।

महावीर के घर से निकलकर मुख्यमंत्री करीब 100 मीटर पैदल चलकर अशर्फी भवन पहुंचे। इस बीच रास्ते में रामकुमार उसकी पत्नी सुभाषिनी, बेटी खुशबू, शिवानी व बेटे धर्मवीर व अंशू को देखकर रुक गए। मुख्यमंत्री ने उनका हालचाल लिया और रामकुमार से पूछा स्कूल बगल में है बच्चे वहां पढ़ने जाते हैं कि नहीं? जिस पर रामकुमार ने बताया कि उसके 6 वर्षीय बेटे अंशू को सुनाई नहीं देता है।

इस पर मुख्यमंत्री ने अंशू को कान की मशीन दिलाने की बात कही। योगी ने परिवार को घर दिलाने का भी वादा किया। यहां से मुख्यमंत्री मणिराम दास छावनी पहुंचे। जहां उन्होंने महंत नृत्य गोपालदास से मुलाकात की। मुख्यमंत्री योगी दिगंबर अखाड़ा पहुंचे। यहां पर सीएम ने संतों से मुलाकात की उनके साथ भोजन भी किया। 

यह भी पढ़ें:    दिग्विजय के खिलाफ साध्वी प्रज्ञा लड़ सकती हैं चुनाव!

यह भी पढ़ें:     जनता को माफियाओं से डरने की जरुरत नहीं: महेन्द्र नाथ पांडेय

leave a reply

राज्यों के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी