massiar-banner

एसआईटी फिर खंगालेगी कांग्रेस के खाते

Foto

राज्यों के समाचार/state news

एनएच -74 घोटाले में बढ़ सकती हैं कांग्रेस की दिक्कतें

देहरादून। उत्तराखण्ड में कांग्रेस को घेरने के लिए अब सरकार तैयारी में जुट गई है । खबर है की एसआईटी के पास एनएच घोटाले में ऐसे कई दस्तावेज हैं जिनसे कांग्रेस की परेशानी बढ़ सकती है । एसआईटी इस मामले पर अब सिर्फ राज्य सरकार के अगले आदेश का इंतजार कर रही है। 

एनएच-74 घोटाले मामले पर अब कांग्रेस की मुश्किल बढ़ सकती है। मामले की जांच कर रही एसआईटी जल्द ही कांग्रेस के खाते फिर से खंगाल सकती है।  इस मामले में हाल ही में 2 आईएएस अधिकारियों को सस्पेंड करने के बाद मामले की जांच में और तेजी आ गई है । एसआईटी अपनी एक रिपोर्ट सरकार को भेज चुकी है और जल्द ही दूसरी रिपोर्ट भेजने की तैयारी में है। इधर राज्य सरकार ने इस बात के संकेत दिए हैं कि आने वाले दिनों में कांग्रेस के खाते में आए पैसे का हिसाब मांगा जा सकता है। 

 

यह भी पढ़ें:   शिवपाल के सेक्युलर मोर्च से जुड़ सकते हैं कई दिग्गज

 

गौरतलब है कि 2017 के विधानसभा चुनाव से ठीक पहले कांग्रेस के खाते में करोड़ों रुपए चुनावी फंड के रूप में जमा किए गए थे एसआईटी और सरकार को शक है की एनएच 74 घोटाले की रकम का एक बड़ा हिस्सा कांग्रेस को चंदे के रुप में दिया गया इस मामले पर एसआईटी एक बार पहले भी तत्कालीन कांग्रेस अध्यक्ष किशोर उपाध्याय से पूछताछ कर चुकी है।

इस मामले पर बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट ने सीधा-सीधा कांग्रेस से सवाल पूछा है कि "वह बताएं कि उसके खाते में पैसे कहां से आए थे दूसरी तरफ मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत ने भी साफ कहा कि जो जांच हमने बैठाई उसमे कोई पक्षपात नही होगा विपक्ष इसमे घिरा हुआ है ये घोटाला उसके शासनकाल में हुआ है उनके ही संरक्षण में हुआ हैI

हमारे को संरक्षणकर्ताओं तक पहुचना है इसमे अगर किसी दूसरी जांच एजेंसी की भी मदद लेनी पड़ी तो उसे लिया जाएगा। इधर प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष सूर्यकांत धस्माना ने सरकार को आड़े हाथों लेते हुए पूछा कि सरकार ये बताये की नेशनल हाइवे के अधिकारियों से पूछताछ के बिना ये जांच कैसे पूरी होगी। 

 

यह भी पढ़ें:   हक की खातिर चौकीदारों ने सरकार के खिलाफ खोला मोर्चा

 

बता दें कि उत्तराखंड में स्थानीय निकाय चुनाव होने हैं और उसके बाद अगले साल लोकसभा चुनाव की तैयारी में भी दोनों ही पार्टियां जुटी हुई है लिहाजा दोनों पार्टियां एक ऐसा मुद्दा तलाश रही है जिसे वह चुनाव में भुनाया जा सके। 

leave a reply

राज्यों के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी