ये पहली सरकार है जो गरीबों के उपचार के बारे में सोच रही है : राजनाथ

Foto

राज्यों के समाचार/state news

गृहमंत्री ने आयुष्मान भारत के लाभार्थियों को वितरित किये पीएम के संबोधित पत्र

लखनऊ। लोग आयुष्मान भारत योजना को मोदी केयर का नाम दे रहे हैं यह मोदी केयर नहीं मोदी कवच एक अभिनव योजना है प्रधानमंत्री ने स्वच्छता अभियान भी चलाया है जिसकी विश्व स्वास्थ्य संगठन ने सराहना की है यह पहली सरकार है जो गरीबों के इलाज के बारे में सोच रही है,उक्त विचार इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में शुक्रवार को आयुष्मान भारत *प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना *के लाभार्थियों को प्रधानमंत्री संबोधित पत्रों के वितरण कार्यक्रम में व्यक्त किये।

राजनाथ ने कहा कि प्रधानमंत्री ने सबसे पहले स्टेंट की कीमत कम की और नी ट्रांसप्लांट की कीमत में भी 85% की कमी की। इस अवसर पर माननीय गृहमंत्री ने 15 लाभार्थियों को प्रधानमंत्री द्वारा लिखे गये पत्रों का वितरण भी किया।

स्वास्थ्य मंत्री सिद्वार्थनाथ सिंह ने मंच पर उपस्थित चिकित्सा शिक्षा मंत्री आशुतोष टंडन से आग्रह किया कि पीजीआई को भी सूचीबद्ध करा दे। अब तक उत्तर प्रदेश में इस योजना के अंतर्गत 882 लोगों को लाभ मिल चुका है।

50 जनपदों में प्रधानमंत्री द्वारा लिखित पत्रों को वितरित करने का कार्य किया जा रहा है। 25 और जनपदों में यह कार्य जल्दी पूरा कर लिया जाएगा। समारोह को संबोधित करते हुए  स्वास्थ्य मंत्री ने योजना के बारे में बताया और कहा कि जो लोग छूट गए हैं ऐसे लगभग 10 लाख लोगों को उत्तर प्रदेश में जोड़ा जाएगा।

और उन पर आने वाला पूरा खर्चा राज्य सरकार वहन करेगी। उन्होंने कहा कि मैंने निर्देश दिए हैं कि जो लोग छूट गए हैं,2 माह के अंदर उन्हें जोड़ने का कार्य पूरा करें। स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि अब तक 1190 अस्पताल सूचीबद्ध किए जा चुके हैं जिसमें 19 मेडिकल कॉलेज भी सम्मिलित है।

इस अवसर पर आयोजित समारोह में चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ,मंत्री विधि एवं न्याय बृजेश पाठक ,चिकित्सा शिक्षा मंत्री आशुतोष टंडन, वरिष्ठ विधायक सुरेश  श्रीवास्तव, जयदेवी, प्रमुख सचिव चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण प्रशांत त्रिवेदी,महानिदेशक परिवार कल्याण डा.नीना गुप्ता उपस्थित थे।

यह भी पढ़ें:   बारादरी में शुरू हुई ‘सिल्क रूट‘ प्रर्दशनी

यह भी पढ़ें:   सीबीआई दफ्तर पर प्रदर्शन कर रहे कांग्रेसियों पर लाठीचार्ज

यह भी पढ़ें:    पीएमएवाई के स्वीकृत लाभार्थियों के पात्रता जांच 31 अक्टूबर तक पूर्ण करें:...

leave a reply

राज्यों के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी