चरम पर था भारत और पाक के बीच तनाव

Foto


विश्व के समाचार/worlds news


दिल्ली। भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव आज भी कम नहीं है। जम्मू कश्मीर के पुलवामा हमले के बाद से जिस तरह भारत में सरकार पर आम आदमी का दबाव बढ़ा उससे सरकार का भी मूड आरपार करने का बन गया था। इन हालातों के चलते भारत सरकार ने सेना को खुली छूट का ऐलान कर दिया। यह मैसेज मीडिया के माध्यम से पूरी ​दुनिया को गया।

पाकिस्तान सरकार बार बार भारत सरकार पर दबाव बनाने का प्रयास भी करती रही। वहां के वजीरेआला इमरान खान ने भी कई बार यही कहा कि भारत पकिस्तान को कमजोर न समझे। उसकी हर हरकत का मजबूती के साथ जवाब दिया जाएगा। इस्लामाबाद ने कहा था कि वह भारत की एक मिसाइल का जवाब तीन मिसाइल से देगा।

इसी तनाव के बीच भारतीय सेना ने पाकिस्तान के आतंकी ठिकाने पर एक हजार किलो का बम बरसाकर उसे तहसनहस कर डाला। पाक सरकार भारत की इस गतिविध का जवाब देने की सोचने लगी, लेकिन अंतरराष्ट्ीय समुदाय में पाक पर दबाव ज्यादा था, लिहाजा उसने बातचीत से हल का ढिंढोरा पीटना शुरू कर दिया।

सूत्रों के अनुसार दोनों देशों के खराब हालातों के बीच अमेरिकी राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जॉन बोल्टन ने भी मध्यस्थता करने की कोशिश की। 27 फरवीर को पाकिस्तान के लड़ाकू विमान भारतीय सीमा में आ गए थे। जिसके जवाब में भारत ने पाकिस्तान का एफ-16 लड़ाकू विमान गिरा दिया। 

 

यह भी पढ़ें      आतंकवाद के मुद्दे पर भारत को मिला अमेरिकी का समर्थन

यह भी पढ़ें    पहले भी जैश भारत में कर चुका है हमले:परवेज मुशर्रफ

leave a reply

विश्व के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी