पाकिस्तान : नवाज की सजा टली, इमरान की मुसीबत बढ़ी

Foto

World news / विश्व के समाचार


बेटी और दमाद को भी इस्लामाबाद हाईकोर्ट ने दी राहत

अपील पेडिंग रहने तक टाली गई सजा, रिहाई की शुरू हुईं तैयारियां


नई दिल्ली। भ्रष्टाचार और काले धन के आरोपों का सामना कर रहे और लंदन में 4 लग्जरी फ्लैट खरीदने के मामले में सजा पाये पाकिस्तान के पूर्व पीएम नवाज शरीफ, उनकी बेटी मरियम और दमाद सफदर के लिए एक राहत भरी खबर है। इस्लामाबाद हाईकोर्ट ने नवाज शरीफ की सजा पर रोक लगा दी है। इसके साथ ही उनकी बेटी मरियम नवाज और दामाद मोहम्मद सफदर की भी सजा टल गई है। इस्लामाबाद हाईकोर्ट के मुताबिक जब तक अपील पेंडिंग रहेगी तब तक तीनों रिहा रहेंगे।

 

यह भी पढ़ें :   अगस्ता वेस्टलैंड के बिचौलिए मिशेल के प्रत्यर्पण की मिली अनुमति

 

इन तीनों की सजा रोके जाने के बाद इन्हें रिहा करने की तैयारी चल रही है। दूसरी तरफ कोर्ट के इस फैसले के बाद पाकिस्तानी पीएम इमरान खान की मुश्किल बढ़ना तय माना जा रहा है। जेल से बाहर आने के बाद नवाज फिर सक्रिय हो सकते हैं। पिछले दिनों हुए आम चुनावों में इमरान की जीत पर सेना के सहयोग का गंभीर आरोप विपक्ष लगा रहा था। इस पर अब पाकिस्तान में राजनीतिक सरगर्मी शुरू हो सकती है। जो पीएम इमरान के लिए खासी मुश्किल भरी साबित होंगी।

पहले उच्चतम न्यायालय के फैसले के बाद पिछले साल 68 वर्षीय शरीफ और उनके परिवार के खिलाफ भ्रष्टाचार के तीन मामले दर्ज किए गए थे। शरीफ भ्रष्टाचार के बाकी मामलों में अल अजीजियां स्टील मिल्स और हिल मेटल इस्टैबलिशमेंट मामलों में सुनवाई के लिए इस्लामाबाद आधारित उच्च न्यायालय में पेश हुए थे।

 

यह भी पढ़ें :   थमने का नाम नहीं ले रहा है ट्रेड वॉर

 

शरीफ, उनकी 44 वर्षीय बेटी मरियम, और 54 वर्षीय दामाद कैप्टन (रिटायर्ड) मोहम्मद सफदर अडियाला जेल में क्रमश: 10 साल, 7 साल और 1 साल की कैद की सजा काट रहे थे। उन्हें लंदन में अवैध तरीके से चार लग्जरी फ्लैट खरीदने के मामले में जवाबदेही अदालत ने दोषी ठहराया था। 

 

इमरान की बढ़ सकती है मुश्किल


पिछले दिनों पाकिस्तान के आम चुनाव में इमरान खान की पार्टी सबसे बड़ी पार्टी के रूप में सामने आई थी। विपक्ष ने इमरान की पार्टी पीटीआई पर सेना की मदद से जीत हासिल करने का आरोप लगाया था। विपक्ष ने जांच की मांग भी की थी। अब नवाज शरीफ की सजा पर रोक लगने से वे खुलकर मैदान में उतर सकते हैं।

 

यह भी पढ़ें :  अब बांग्लादेश में ईवीएम से होंगे चुनाव

 

जानकारों का मानना है कि वे पीएम इमरान के लिए मुश्किलें खड़ी कर सकते हैं। जानकारों का यह भी कहना है कि पाकिस्तान में अगले डेढ से दो साल में फिर चुनाव कराने की नौबत तक आ सकती है। 

 

leave a reply

विश्व के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी