loader

फ्राड करने वाले बौद्ध भिक्षु को 114 साल की सजा

Foto

World News / विश्व के समाचार

बौद्ध प्रतिमा बनाने के नाम पर ​लिया था दान


नई दिल्ली। थाईलैंड में ​दुनिया की सबसे बड़ी बौद्ध प्रतिमा बनाने के लिए दानदाताओं से धन लेकर फ्राड करने वाले बौद्ध भिक्षु को यहां की कोर्ट ने 114 साल की सजा सुनाई है। इस भिक्षु पर एक नाबालिक से रेप का भी आरोप है। जिस पर फैसला अभी नहीं आया है।

 

यह भी पढ़ें : म्यांमार ने की पहल, खोल दिया इंडो-म्यांमार फ्रेंडशिप ब्रिज 

 

विराफोन सुकफोन 2013 में उस समय सुर्खियों में आया था जब उसकी एक निजी जेट पर डिजाइनर एविटर चश्मा पहने और लुई वीटॉन का बैग लिए एक फुटेज सामने आई थी। 39 वर्षीय सुकफोन अमरीका भाग गया था लेकिन नाबालिग से बलात्कार करने और दानदाताओं को धोखा देने के आरोपों के बाद उसे वापस भेजा गया। 

दानदाताओं ने दुनिया की सबसे बड़ी बौद्ध प्रतिमा बनाने के लिए उसे धन दिया था। जांच में पता चला कि उसने लग्जरी कारें खरीद रखी है और उसके कई बैंक खातों में 7,00,000 डॉलर की धनराशि है। बैंकॉक की एक अदालत के एक अधिकारी ने बताया कि सुकफोन को धन शोधन, धोखाधड़ी, ऑनलाइन चंदा जुटाने के लिए कम्प्यूटर क्राइम एक्ट का उल्लंघन करने का दोषी पाया गया।

 

यह भी पढ़ें :  पाकिस्तान : इमरान की 'शपथ' पर चुनाव आयोग का 'ग्रहण'

 

न्यायाधीशों ने उसे दोषी ठहराया और 114 साल की जेल की सजा सुनाई है। थाईलैंड के कानून के अनुसार सुकफोन 20 साल से ज्यादा की सजा नहीं काटेगा। उसे 29 दानदाताओं के 8,61,700 डॉलर भी लौटाने होंगे। एक सरकारी अभियोजक ने बताया कि बलात्कार के मामले पर फैसला अक्तूबर में आने की संभावना है। 

 

 

 

leave a reply

विश्व के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी